रिटायरमेंट के बाद भी चालू रख सकते है बीमा पॉलिसी, रहेगा ये ऑप्शन

0
27

जयपुर। राज्य कर्मी सेवानिवृति के ठीक पश्चात आने वाले 31 मार्च तक  अपनी बीमा पॉलिसी को जारी रख सकते हैं। ऎसी स्थिति में कार्मिक को बीमाकृत राशि, विस्तारित अवधि के बोनस सहित, सेवानिवृति के ठीक पश्चात आने वाले प्रथम अप्रैल को संदेय होगी। राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग के निदेशक आनन्द स्वरूप ने जानकारी देते हुए बताया कि लेकिन यह लाभ कार्मिकों को नियमोें की जानकारी के अभाव में यह लाभ नहीं लिया जाता है। उन्होंने बताया बीमाकृत व्यक्ति को उसकी सेवानिविृति के ठीक पश्चात आने वाले 31 मार्च तक बीमे को जारी रखने की अपनी इच्छा व्यक्त करने का विकल्प होगा। 

राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग के निदेशक आनन्द स्वरूप ने जानकारी देते हुए बताया कि अगर कोई कार्मिक उक्त विकल्प लेता है तो उसे इसकी सूचना अपने आहरण एवं वितरण अधिकारी के माध्यम से इस विभाग के संबंधित जिला कार्यालय को परिपक्वता की मूल तारीख के 15 दिन पूर्व भेजा जाना अनिवार्य है। 

उन्होंने बताया कि प्रायः यह देखा गया है कि राज्य कर्मी सेवानिवृत्ति के ठीक पहले आने वाले 1 अप्रेल को अपनी राज्य बीमा पॉलिसी में परिपक्वता दावा राशि का भुगतान प्राप्त कर लेता है। परिपक्वता के बाद लगभग 1 से 12 माह तक राज्य बीमा योजना के लाभ से वंचित रहते हैं। राजस्थान सरकारी कर्मचारी बीमा नियम, 1998 के प्रावधानों के अनुसार कार्मिकों द्वारा इस विकल्प को चुना जाता है तो वह सेवानिवृत्ति के ठीक पश्चात आने वाले 31 मार्च तक योजना के लाभ को प्राप्त कर सकता है ।

उन्होंने बताया कि बीमेदार द्वारा उक्त विकल्प लेने पर सेवानिवृति के ठीक पश्चात आने वाले 31 मार्च तक मृत्यु होने पर बीमाकृत राशि की दुगुनी राशि कार्मिक को संदत्त की जायेगी। प्रीमियम बीमाकृत व्यक्ति को सेवानिवृत्ति तक वेतन से वसूलीय होगा और संचित असंदत्त प्रीमियम बिना ब्याज के दावे के रकम में से वसूलीय होगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here