Breaking News

शिक्षित इंडिया, एन.के त्रिपाठी की टिप्पणी

Posted on: 30 May 2018 10:08 by krishna chandrawat
शिक्षित इंडिया, एन.के त्रिपाठी की टिप्पणी

सीबीएसई के 12वी और 10वी के परिणाम देखने का यह एक सुहाना अनुभव था। कक्षा 12वी में 83.01% और कक्षा 10वी में 86.7% स्टूडेंट पास हुए हैं। यह जानकर बहुत खुशी है, एक बार फिर लड़कियों ने लडको को बाहर निकाला है। कक्षा 12 वीं सीबीएसई में 11.8 लाख स्टूडेंट में से 72599 ने 90% से अधिक अंक बनाए हैं। बेहतर प्राइवेट स्कूल और बेहतर वित्त पोषित केंद्रीय स्कूल सीबीएसई प्रणाली कि रीढ़ की हड्डी को बनाते हैं। ये उज्ज्वल लड़कियां और छात्र दिल्ली विश्वविद्यालय आईआईटी, एम्स इत्यादि जैसे सर्वश्रेष्ठ भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में जगह लेंगे।

इन स्टूडेंट्स का जोड़ा एक ही स्तर पर राज्य बोर्डों से 10 मिलियन अधिक हैं और उनमें से कुछ सर्वश्रेष्ठ शैक्षिक स्थानों तक भी पहुंचेंगे। हालांकि भारत को शेष स्टूडेंट्स के विशाल बहुमत के बारे में भी सोचना है! भारत में अच्छे सार्वजनिक (मतलब प्राइवेट) स्कूल होने की लंबी परंपरा है और हाल के दशकों में उनकी संख्या में अचानक वृद्धि हुई है। यूपीए I ने एक बहुत ही लोकप्रिय आरटीई अधिनियम पारित किया जिसके द्वारा निजी स्कूल कमजोर वर्गों के छात्रों को लेने के लिए बाध्य हैं।

लेकिन पूरे भारत में राज्य सरकारों ने मुफ्त प्राथमिक शिक्षा के बेहद खराब स्तर प्रदान किए हैं। उनका बुनियादी ढांचा बेहद खराब है और शिक्षक अनुपस्थिति और अनुशासन के लिए उपयोग किए जाते हैं। और  एएसएआर के एक सर्वेक्षण ने सभी राज्य सरकारों को  ही छोड़ दिया है। यहा कोई आश्चर्य की बात नहीं कि शहरी और एक तिहाई ग्रामीण बच्चे निजी स्कूलों में भाग लेते हैं। निजी स्कूलों में भीड़ है (वे खुद को कॉन्वेंट कहते हैं) ये स्कूल गरीब लोगों की जरूरतों को पूरा करतें है।

पर सरकारें इनका प्रबंधन करने में सक्षम नहीं हैं और इसके चलते इन निजी स्कूलों को बंद कर रहे हैं उनका तर्क है ये गरीब बच्चों के लिए आधिकारिक मानदंडों को पूरा नहीं पूरा नहीं कर रहे हैं। कक्षा 12वी में  बाहर से आने वाले स्टूडेंट्स उच्च शिक्षा के लिए परेशान हैं, कई स्टूडेंट्स की विभिन्न परतें हैं और ऐसे में उन्हें उचित उच्च शिक्षा प्रदान करना मुश्किल हो जाता है। उनमें से कुछ विश्व स्तर की शिक्षा चाहते हैं जबकि अन्य  कई आजीविका पाने के लिए केवल एक डिग्री चाहते हैं। स्कूल शिक्षा के विपरीत जहां निजी स्कूलों की व्यवस्था दृढ़ता से स्थापित की जाती है,वहीँ  उच्च शिक्षा में निजी भागीदारी हाल ही में जड़ें ले रही है। इससे पहले निजी संस्थान बहुत कम थे लेकिन अब अधिक से अधिक निजी विश्वविद्यालय और अन्य संस्थान आ रहे हैं।

शॉर्ट टर्म विस्टा की तलाश करने की उनकी स्वाभाव से सरकारें इस विशाल देश में गुणवत्ता उच्च शिक्षा प्रदान करने की जटिल समस्या को समझने में असमर्थ हैं। उच्च शिक्षा के वर्ग केंद्र बनाने की कोई भी दीर्घकालिक अवधारणा तेजी से बदलती सरकारों से अपेक्षा करने के लिए बहुत अधिक है। यहां तक ​​कि यूजीसी ने कक्षा के कमरे को मापने और शिक्षकों के प्रमुखों की गिनती के पुरातन स्तरों को लागू करके निजी पहल को भी प्रभावित किया है।

सरकारों को यह महसूस करना चाहिए और माइक्रोनैनेज करने और किसी भी प्रणाली को नियंत्रित करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, इससे पहले कि उसने अपनी जड़ें ली हों। हमारे निजी विश्वविद्यालयों को वास्तविक स्वायत्तता क्या है। राजनेता घबराए हुए हैं कि अगर वे उचित तरीके से लगाम  नहीं लगते हैं तो ये निजी संस्थान लाभप्रद और विरूपण के स्थान बन जाएंगे। शैक्षिक संस्थानों के स्वस्थ विकास के लिए फीस आदि का फैसला करने का अधिकार जरूरी है।

इसे प्रतिस्पर्धा और बाजार की ताकतों को शुल्क तय करने के लिए छोड़ दिया जाना चाहिए, न कि नौकरशाहों के समूह के लिए। यदि नवजात चरण में ये विश्वविद्यालय इन मुद्दों को साहसपूर्वक नहीं उठाते हैं तो वे छात्रों की भविष्य की पीढ़ियों को उच्च स्तर शिक्षा प्रदान करके असंतोष करेंगे जो केवल अधिकारियों के बाहरी मानदंडों को पूरा करता है। अंत में मैं जोर देना चाहूँगा कि हमें इस तथ्य पर गर्व होना चाहिए कि दुनिया में 10 में से सर्वश्रेष्ठ 7 विश्वविद्यालय निजी विश्वविद्यालय हैं।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com