moreबिजनेस

आर्थिक संकट से उभारने के लिए RBI आया सामने, EMI को लेकर किए बड़े ऐलान

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण दुनिया के बड़े से बड़े देशों की अर्थव्यवस्था संकट में आ चुकी है। ऐेसे में भारत में पहले मंदी के माहौल में कोरोना वायरस की एंट्री से अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका लगा है। देश को इस आर्थिक संकट से उभारने के लिए जहां एक और केंद्र सरकार ने आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था वहीं इस पर आरबीआई भी देश की अर्थव्यवस्था को उभारने के लिए एक बार फिर सामने आई है।

RBI-

रेपो रेट किया कम 

शुक्रवार को आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कई बड़े और अहम फैसलों का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि एमपीसी ने रेपो रेट में 0.40 फीसदी की कटौती की है। अब रेपो रेट को 4 फीसदी कर दी गई है। इसका असर लोगो की ईएमआई पर हो सकता है। इससे आपकी ईएमआई कम हो सकती है। उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हुआ है। अब अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के तमाम उपाय किए जा रहे हैं। महंगाई दर के काबू में रहने की उम्मीद है।

money

6 बड़े प्रदेशों में औद्योगिक उत्पादन ठप

उन्होंने बताया कि मानसून के सामान्य रहने का भी अनुमान है। कोरोना संकट और लॉकडाउन की वजह से देश के 6 बड़े प्रदेशों में औद्योगिक उत्पादन ठप हुआ है। बिजली, पेट्रोलियम की खपत में कमी दर्ज की गई है। मार्च में सीमेंट उत्पादन 19 फीसदी लुढ़क गया तो वहीं देश में निवेश को लेकर काफी कमी दर्ज हुई है। इसके साथ ही उन्होंने टर्म लोन पर मोरटोरियम की सुविधा को 3 महीने के लिए और बढ़ाने का भी ऐलान किया है।

EMI

31 अगस्त तक किया ईएमआई देने का समय

आरबीआई के इस ऐलान के बाद अब ईएमआई देने के लिए 1 जून से 31 अगस्त तक का समय कर दिया है। इसके साथ ही आरबीआई ने सिडबी को रकम के इस्तेमाल के लिए अतिरिक्त समय देने का भी ऐलान किया। ऐलान के मुताबिक अब सिडबी को 15000 करोड़ रुपए के इस्तेमाल के लिए 90 दिनों का अतिरिक्त समय मिलेगा।

GDP

नेगेटिवे जा सकती है जीडीपी 

गवर्नर ने बताया कि एक्सपोर्ट क्रेडिट समय 12 महीने से बढाकर 15 माह किया जा रहा है। उन्होंने इस बात से भी चेताया कि चालू वित्तीय वर्ष की जीडीपी ग्रोथ रेट नेगेटिव रह सकता है। इसके साथ ही उन्होंने लॉकडाउन की वजह से महंगाई बढ़ने की आशंका भी जताई है।