जयपुर। राष्ट्रीय राजधानी में केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन अभी भी जारी है। इसी के चलते बीजेपी के नेता लगातार अपनी तीखी प्रक्रिया देते आ रहे है। वही अब राजस्थान के दौसा से बीजेपी की सांसद जसकौर मीणा ने एक बार फिर धरने पर बैठे किसानों की तुलना खालिस्तानियों से करते हुए कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी युगपुरुष हैं, जो देश को बदलना चाहते हैं और कृषि कानून इसी ओर का एक कदम है। किसान आंदोलन को लेकर जसकौर मीणा बोलीं कि किसान आंदोलन में आतंकी एके-47 लेकर बैठे हैं, जो वहां बैठे हैं वो खालिस्तानी हैं।

बता दें कि इससे पहले भी कई बीजेपी के नेताओं ने किसानों के आंदोलन पर सवाल खड़े किये है। जिसको लेकर किसान संगठनों ने नाराजगी व्यक्त की और केंद्र सरकार के साथ होने वाली बातचीत में भी इस मसले को उठाया था। वही आज किसान आंदोलन और भारत सरकार के प्रतिनिधियों में दसवें दौर की चर्चा होनी है, जिसमें किसानों की ओर से फिर कृषि कानून को वापस लेने की अपील की जाएगी।

वहीं हाल ही में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी न्यूज़ एजेंसी से बात कर ऐसे बयानों पर आपत्ति जताई थी। रक्षा मंत्री ने कहा था कि ‘मैं किसी भी सूरत में सिख भाइयों को खालिस्तानी कहा जाना बर्दाश्त नहीं करूंगा। मैं उन्हें बड़ा भाई मानता हूं। हिंदू धर्म का बड़ा भाई खालसा पंथ स्वीकार करता था।’ उन्होंने अपने बयान में कहा था कि देश की संस्कृति बचाने में जो योगदान सिख समुदाय का है वो भारत कभी भूल नहीं सकता। सिख समाज के प्रति मेरे मन में बड़ा सम्मान है।