आगामी 1 जुलाई से देश में सिंगल यूज प्लास्टिक (plastic) के उपयोग पर प्रतिबंध लगने जा रहा है । आदेश के अनुसार पेय पदार्थ उत्पादक कंपनियां अब अपने उत्पाद प्लास्टिक स्ट्रा व अन्य प्लास्टिक के सामान के साथ नहीं बेच पाएंगे। सरकार के इस आदेश से पैक्ड जूस, सॉफ्ट ड्रिंक्स और डेयरी उत्पाद बनाने और विक्रय करने वाली कंपनियों को व्यापार प्रभावित होने की चिंता है।

अमूल,मदर डेयरी ने सरकार से की प्रतिबंध टालने की अपील

भारत में 1 जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक पर लगने जा रहे बैन को टालने के लिए अमूल, मदर डेयरी ,डाबर जैसी बड़ी कंपनियों ने सरकार से निवेदन किया है। गौरतलब है कि उक्त कंपनियां उन पेय पदार्थों का उत्पाद बड़ी सँख्या में करती हैं जिनमें प्लास्टिक स्ट्रा की आवश्यकता होती है। इस प्रतिबंध के बाद इन कंपनियों को व्यवसाय घटने की चिंता सता रही है, परन्तु सरकार की ओर से इस मामले में कोई छूट नहीं देने के निर्देश दे दिए गए हैं।

Also Read – महाराष्ट्र: राज्यपाल ने दिए बहुमत परीक्षण के निर्देश, 30 जून को होगा फ्लोर टेस्ट

प्लास्टिक के बदले वैकल्पिक पेपर स्ट्रा के उपयोग के सुझाव

सरकार ने सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध के फैसले पर सख्त रहते हुए पेय पदार्थ कंपनियों को प्लास्टिक स्ट्रा के बदले वैकल्पिक पेपर स्ट्रा के उपयोग के सुझाव दिए हैं। कई कंपनियों द्वारा पेपर स्ट्रा का आयात शुरू कर दिया गया है, परन्तु प्लास्टिक स्ट्रा की तुलना में पेपर स्ट्रा के चार गुना अधिक मूल्य की वजह से इसके उपयोग को लेकर उदासीनता है।