भारत के आगे झुका एंटीगुआ, मेहुल चोकसी की नागरिकता होगी रद्द

0
120
mehul choksi

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक में करोड़ों का घोटाला करने वाला आरोपी मेहुल चोकसी जल्द ही भारत लाया जाएगा। भारत के दबाव के आगे एंटीगुआ को झुकना पड़ा। एंटीगुआ ने मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने का फैसला ले लिया है। एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने बयान दिया है कि वह जल्द ही मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने वाले हैं। उनके मुताबिक, भारत की ओर से लगातार इसको लेकर दबाव बनाया जा रहा था।

गौरतलब है कि मेहुल चोकसी एंटीगुआ में रह रहा है ,भारत सरकार उसे वापस लेन के तमाम प्रयास कर रही है। इन प्रयासों के बीच मोदी सरकार को एक बड़ी सफलता मिली है। मेहुल चोकसी की एंटीगुआ नागरिकता ख़त्म होते ही उसे भारत लाने का रास्ता भी साफ़ हो जाएगा।

ख़बरों के मुताबिक़ एंटीगुआ के प्रधानमंत्री ने कहा कि मेहुल चोकसी को पहले एंटीगुआ की नागरिकता मिली हुई थी लेकिन अब इसे रद्द किया जा रहा है और भारत प्रत्यर्पित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हम किसी भी ऐसे व्यक्ति को अपने देश में नहीं रख सकते, जिसपर किसी भी तरह के आरोप लगे हों।

नहीं बचा कोई कानूनी रास्ता

एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन के मुताबिक़ मेहुल चोकसी के पास अब कोई भी कानूनी रास्ता नहीं बचा है जिससे वह बच निकले। अब मेहुल चोकसी की भारत वापसी तय है। उनहोनेआगे कहा कि फिलहाल मेहुल चोकसी का मामला कोर्ट में है इसलिए हमें पूरी प्रक्रिया का पालन करना होगा।

चुनाव में बना था मुद्दा

गौरतलब है कि बैंक में घोटाला कर विदेश फरार हुआ मेहुल चोकसी और नीरव मोदी को लेकर मोदी सरकार हमेशा से ही विपक्ष के निशाने पर रही है। चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गंशी ने लगातार ये मुद्दा उठाया। अब यदि मेहुल क्घोक्सी की भारत वापसी हो जाती है तो ये मोदी सरकार की बड़ी कामयाबी मानी जा सकती है।

13 हजार करोड़ का किया घोटाला

गौरतलब है कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पीएनबी में 13 हजार करोड़ का घोटाला कर विदेश भाग गए थे। इसके बाद से ही भारत की जांच एजेंसियां उनकी तलाश में जुटी हुई थी। जांच एजेंसियों ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कई संपत्तियां भी जब्त कर ली है। कुछ ही दिन पहले महाराष्ट्र के रायगढ़ में बने नीरव मोदी के आलिशान बंगले को ध्वस्त कर दिया गया था।

कई बार भेजा समन

सरकार , जांच एजेंसियों और अदालत की तरह से मेहुल चोकसी को कई बार सामान भेजा गया लेकिन हर बार उसने आने से मना कर दिया। उसका तर्क था कि यदि वह भारत आएगा तो उसकी लिंचिंग कर दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here