उज्जैन में 11 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्य आतिथ्य में महाकाल लोक के आलौकिक तथा दिव्य और भव्य लोकार्पण समारोह के लिए इंदौर जिले में उत्साह और उमंग का अद्भुत वातावरण है। पूरा जिला भक्तिमय रहेगा और उक्त कार्यक्रम का साक्षी बनेगा। कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देशन में जिले में व्यापक तैयारियां की गई है। मंदिरों में विशेष साज-सज्जा की गई है। मंदिरों में घंटे-घड़ियाल के साथ शंखनाद किया जायेगा। भजन कीर्तन होंगे।

हर नागरिक इस कार्यक्रम का साक्षी बन सके, इसके लिये मंदिरों में विशाल एलईडी और टीवी लगाकर कार्यक्रम का सीधा प्रसारण भी दिखाया जायेगा। इंदौर जिला भक्ति, उल्लास और उमंग से सराबोर रहेगा। सभी गांवों और नगर परिषदों में विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। इंदौर जिले में जगह-जगह मंदिरों में भव्य कार्यक्रम आयोजित करने का कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। जिले के शहरी एवं ग्रामीण दोनों क्षेत्रों के समस्त मंदिरों में अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। जिले के गांवों में मंदिरों के आस-पास के क्षेत्र में प्रभात फेरी का आयोजन किया गया।

महाकाल लोक से संबंधित अथवा कार्यक्रम से संबंधित फ्लेक्स, होर्डिंग लगाये गये हैं। मंदिर के पुजारी, संत, आध्यात्मिक-सामाजिक व्यक्तियों, मंदिरों की प्रबंध समिति के सदस्यों, पंच, सरपंच, पार्षद, नगर परिषद अध्यक्ष, जनपद सदस्य, जनपद अध्यक्ष, जिला पंचायत सदस्य, जिला पंचायत अध्यक्ष तथा ग्राम पटेल, अन्य गणमान्य व्यक्तियों एवं जनप्रतिनिधियों को कार्यक्रमों में ससम्मान आमंत्रित किया गया है। मंदिरों की साफ-सफाई, पुताई, साज-सज्जा भी की गई है। मंदिरों में 11 अक्टूबर को नागरिकों के बैठने के लिये बिछायत अथवा कुर्सी आदि की व्यवस्था की जा रही है। कार्यक्रम के दिन मंदिरों में विशेष पूजन के आयोजन किये जाएंगे। प्रसाद का वितरण किया जायेगा।

मंदिरों में टीवी लगाये जाएंगे। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिखाया जायेगा। कार्यक्रम के दिन मंदिर में दीप प्रज्वलित किये जायेंगे। साथ ही विद्युत रोशनी भी की जायेगी। मंदिरों को झंडे तथा पताकाएँ लगाकर सजाया जा रहा है। कार्यक्रम वाले दिन मंदिरों में शंख ध्वनि की जायेगी। प्रत्येक शिव मंदिर में विशेष अभिषेक किया जायेगा। नागरिकों को कार्यक्रम के दिन अपने-अपने घरों में दीपक जलाने हेतु प्रेरित किया जा रहा है। इंदौर में विशेष रूप से खजराना मंदिर, वैष्णव देवी माता मंदिर, खेड़ापति हनुमान मंदिर, रणजीत हनुमान मंदिर अन्नपूर्ण मंदिर, भूतेश्वर महादेव मंदिर, गुटकेश्वर महादेव मंदिर, गेंदेश्वर महादेव मंदिर, इंद्रेश्वर महादेव मंदिर, बीजासन माता मंदिर, बड़ा गणपति मंदिर, पितृ पर्वन हनुमान मंदिर तथा कनकेश्वरी देवी मंदिर में विशेष कार्यक्रम होंगे।

Also Read: Madhya Pradesh: प्रदेश में पहली बार फास्टैग पार्किंग लागू करने की कदमताल शुरू, फास्टैग के जरिए काटा जाएगा

इसी तरह सांवेर के उल्टा हनुमान मंदिर, चामुण्डा माता मंदिर, काशी विश्वनाथ मंदिर तथा गणपति मंदिर, महू तहसील के चक्की वाले महादेव मंदिर, जानकेश्वर महादेव मंदिर, भोलेनाथ मंदिर, गोपाल मंदिर, खड़े हनुमान मंदिर, प्राचीन कालीमाता मंदिर, सांई बाबा मंदिर, बालाजी मंदिर, शनि मंदिर, परसुराम मंदिर माँ आशापुरा मंदिर, देपालपुर के अचलेश्वर महादेव मंदिर, लक्ष्मी नारायण मंदिर, 24 अवतार मंदिर, अन्नपूर्ण मंदिर, ममलेश्वर महादेव मंदिर, कनाड़िया के श्री राम मंदिर, भिचौलीहप्सी के देवगुराड़िया गुटकेश्वर महादेव मंदिर, केवड़िया महादेव मंदिर, खुडैल के जबरेश्वर मंदिर, शिवशंकर महादेव मंदिर, श्री गोवर्धन नाथ मंदिर, श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर तथा हातोद के बिलकेश्वर महादेव मंदिर, अम्बे माता मंदिर में भी विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इसके अलावा जिले के अन्य मंदिरों में भी कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे।