मुर्गों की लड़ाई की परंपरा को जानकर रह जाएंगे दंग, लगाए जाते हैं करोड़ों के दांव

छत्‍तीसगढ़ के बस्‍तर संभाग में मुर्गों की लड़ाइयों में करीब एक करोड़ रुपए दांव लगाए जाने की खबर सामने आई है।

0
47
मुर्गों

रायपुर : अपने अभी तक सट्टे बाजी और अन्य चीज़ों में लोगों को करोड़ों रुपए लगाते हुए सुना होगा लेकिन क्या अपने अभी तक ये सुना है कि किसी ने मुर्गों के बीच हो रही लड़ाई में करोड़ों रुपए लगाएं हो नहीं सुना होगा लेकिन आज हम आपको एक ऐसा ही किस्सा सुनाने जा रहे है जिसमे लोगों ने मुर्गों की लड़ाई के लिए पैसे लगाएं हैं। बता दें की, छत्‍तीसगढ़ के बस्‍तर संभाग में मुर्गों की लड़ाई में करीब एक करोड़ रुपए दांव लगाए जाने की खबर सामने आई है।

जहां मां दंतेश्वरी की डोली वापसी की खुशी में शनिवार और रविवार को दो दिन का वार्षिक मेले का आयोजन हुआ था। इस लड़ाई में करीब 20 हजार आदिवासियों ने भाग लिया हैं। मुर्गों की लड़ाई के लिए चर्चित इस मेले में इसके लिए 15 जगह घेरे बनाए गए थे। जहां पर मुर्गों का दंगल चल रहा था। हर मेडम पर मुर्गों के लिए हजारों रुपए के दांव लगाए है।

जानकारी के मुताबिक एक हजार मुर्गा जोड़ों की लड़ाई पर करीब एक करोड़ रुपये दांव पर लगाए। मुर्गा लड़ाई में शामिल होने और दांव लगाने के लिए ओडिशा, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से भी लोग पहुंचे थे। पुलिस सुरक्षा के बीच यह खेल रविवार की शाम तक जारी रहा। बता दें कि लड़ाकू मुर्गों के पैर पर तीखी धार वाले ब्लेड बांधे जाते हैं, जिन्‍हें काती कहा जाता है। इसे बांधने वाले जानकार मुर्गा काती बांधने का मेहनताना भी वसूलते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here