उत्तराखंड सरकार ने भी पेंशनरों के लिए त्योहारों पर बोनस गिफ्ट दिया है, अब पेंशनर्स और उनके परिवार के लिए राहत भरी खबर है। आयुष्मान योजना में राज्य स्वास्थ्य स्कीम के तहत 1 अक्टूबर 2022 से एक बार फिर कैशलेस इलाज की सुविधा शुरू हो गई है। इसमें पेंशनर्स गोल्डन कार्ड पर योजना में असीमित खर्चे पर किसी भी सूचीबद्ध अस्पताल में अपना व् अपने परिजनों का इलाज करवा सकेंगे।

अस्पताल में असीमित खर्चो का होगा इलाज

इस योजना में सरकार द्वारा प्रदेश व देश के किसी भी सूचीबद्ध अस्पताल में असीमित खर्चे पर इलाज की सुविधा दी गई है,लेकिन इसके एवज में कर्मचारियों व पेंशनरों से प्रतिमाह अंशदान लिया जाता है। इसके लिए अक्तूबर में मिलने वाली पेंशन से पिछले 9 माह के अंशदान की कटौती की जाएगी,ऐसे में पेंशनरों को अक्तूबर में मिलने वाली पेंशन से जनवरी 2022 से सितंबर तक के अंशदान की कटौती की जाएगी।इससे पहले हाईकोर्ट के आदेश पर सरकार ने दिसंबर 2021 में पेंशनरों से अंशदान की कटौती बंद कर दी गई थी।

अंशदान में होगी कटौती

इसमें वेतन लेवल-1 से 5 में अंशदान 250 रुपये, प्रति माह वेतन लेवल- 6 में 450 रुपये वेतन लेवल- 7 से 11 में 650 रुपये और वेतन लेवल- 12 में 1000 रुपये होगी । इस योजना के तहत राज्य स्वास्थ्य स्कीम के तहत प्रदेश के 4.75 लाख कर्मचारियों, पेंशनरों और उनके परिवार जन के गोल्डन कार्ड बनाए जा चुके हैं। जिन पेंशनरों के अभी तक गोल्डन कार्ड नहीं बन पाए हैं।

हाई कोर्ट के फैसले के बाद आई ख़ुशी की लहर

उत्तराखंड हाईकोर्ट के फैसले के बाद अब प्रदेश के 16800 पेंशनरों ने आयुष्मान योजना से बाहर होने का विकल्प दिया है। इन 16800 पेंशनरों पर अब पूर्व की व्यवस्था लागू होगी और इन्हें चिकित्सा प्रतिपूर्ति की जाएगी।इसके तहत इलाज के बिल संबंधित विभाग को देने होंगे, जिसके बाद विभाग पास कर शासन को भेजेगा और फिर चिकित्सा प्रतिपूर्ति की जाएगी।