UIDAI ने रद्द किए 6 लाख से ज्यादा आधार कार्ड, सरकार ने उठाया कड़ा कदम

आधार कार्ड एक ऐसी चीज है जो हर जगह काम आती है. इसे लेकर UIDAI ने कड़ा फैसला लिया है.

Aadhaar Card: आधार कार्ड आज के समय में सबसे जरूरी दस्तावेज बन गया है. इसकी मदद से पात्रता के अनुसार सरकारी और गैर सरकारी योजनाओं का लाभ उठाया जा सकता है. जो चीज जितनी फायदे की होती है उतनी ही उसके नुकसान भी होते हैं. आधार कार्ड को लेकर भी लंबे समय से शिकायतें मिल रही थी. जिसके चलते UIDAI ने 5,98,999 आधार कार्ड रद्द कर दिए हैं.

इलेक्ट्रॉनिक्स और इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने लोकसभा में विपक्ष के नेताओं की ओर से पूछे गए सवाल के जवाब में बताया कि डुप्लीकेट आधार को लेकर मिल रही शिकायतों को समाप्त करने के लिए UIDAI लगातार प्रयास कर रहा है. उन्होंने बताया कि इसे रोकने के लिए अब फेस वेरिफिकेशन फीचर लाया गया है. जिसके बाद अब आधार को वेरीफाई करने के लिए चेहरे का इस्तेमाल भी किया जाएगा. अब तक सिर्फ फिंगरप्रिंट और आंखों का इस्तेमाल ही होता था.

Must Read- स्मार्टफोन में ऐसे करे पैन कार्ड डाउनलोड, ये है पूरी प्रोसेस

उन्होंने यह भी बताया है कि आधार कार्ड से जुड़ी सेवाओं को लेकर दावा करने वाली संस्थाओं को UIDAI की ओर से नोटिस भी भेज दिया गया है. इन वेबसाइट्स को तुरंत ही सभी सेवा रोकने के लिए और होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर्स को इन्हें ब्लॉक करने के लिए कहा गया है.

जनवरी 2022 में सरकार ने ऐसी 11 वेबसाइट पर आधार कार्ड सर्विस पेशकश पर रोक लगा दी है. सरकार ने बताया है कि इन बेबसाइट्स के पास किसी भी नागरिक के आधार कार्ड पंजीकरण, बायोमेट्रिक डिटेल्स और मोबाइल नंबर बदलने का अधिकार नहीं है. अगर आधार कार्ड यूजर को इन चीजों में बदलाव करवाना है तो उसे आधार कार्ड सेंटर या फिर UIDAI की वेबसाइट पर जाना होगा.