Udaipur Murder Case: ATS ने नकारे NIA के दांवे, कहा- पाकिस्तान से संपर्क में थे हत्यारे

उदयपुर हत्याकांड को लेकर नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं. ATS का कहना है कि शुरुआती जांच में हत्यारों के पाकिस्तान से संबंध होने पर ना नहीं कहा जा सकता.

Udaipur Murder Case: उदयपुर में हुई टेलर कन्हैया लाल की हत्या के मामले में नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक इस मामले को लेकर एंटी टेरेरिस्ट स्क्वॉड (ATS) का कहना है कि आरोपी पाकिस्तान के दो नागरिकों से लगातार संपर्क में थे. हत्या का वीडियो उन्होंने पाकिस्तान के कुछ व्हाट्सएप ग्रुप में शेयर भी किया था. वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा था कि जो आर्डर मिला था वह पूरा हो गया है.

ATS की ओर से नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) के दावों पर सवाल उठाते हुए यह कहा गया की NIA की ओर से इस घटना में आतंकी संगठनों का हाथ नहीं होने की जो बात कही गई है वह प्रीमेच्योर बात है, क्योंकि फिलहाल जांच प्रारंभिक स्तर पर चल रही है.

Must Read- Indore: केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया पहुंचे इंदौर, विधानसभा 3 में आम सभा को किया संबोधित

इससे पहले आज ही इस घटना का एक CCTV फुटेज सामने आया था जिसमें हत्या के आरोपी गौस मोहम्मद और रियाज़ एक बाइक से फरार होते हुए दिख रहे थे. हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि इस बाइक का नंबर 2611 है. मालूम हो कि वही तारीख है जिस दिन मुंबई में आतंकी हमला किया गया था. फुटेज में हत्या के बाद मार्केट में मची सनसनी साफ तौर पर दिखाई दे रही थी.

SIT की जांच में यह कहा गया कि हत्यारों ने अपनी बाइक को स्टार्ट कर के रखा हुआ था, ताकि वारदात को अंजाम देने के तुरंत बाद वहां से भाग निकले. उदयपुर जिला अदालत की ओर से अब ये केस NIA को सौंप दिया गया है.

केस मिल जाने के बाद NIA को गौस मोहम्मद और रियाज़ जब्बार की 1 दिन की ट्रांजिट रिमांड दे दी गई है और कल कोर्ट में पेशी की जाएगी. जांच पड़ताल करते हुए NIA की टीम कानपुर भी पहुंची थी और छापामारी की कार्रवाई की थी. बता दें कि हत्यारों के पास से जो दस्तावेज बरामद किए गए हैं उनका कनेक्शन कानपुर से सामने आया था जिसके बाद यह कार्रवाई की गई. वहीं किसी तरह कि कोई हिंसा ना हो इसके लिए राजस्थान में धारा 144 लगी हुई है और इंटरनेट भी बंद है.