Tithi : आज है मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज बुधवार, मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी तिथि है। आज श्रवण नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है।

आज बुधवार, मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी तिथि है। आज श्रवण नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है।
( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

-आज विवाह पंचमी , श्री पंचमी है।
-आज के दिन राम – जानकी विवाह जनकपुर में सम्पन्न हुआ था।
-आज के दिन श्रीकृष्ण – रुक्मिणि विवाह माधवपुर (गुजरात) में सम्पन्न हुआ था।
-आज नाग दिवाली भी है। (स्कन्द-पुराण)
-आज श्रीबांके बिहारी प्राकट्य दिवस भी है।
-जिस सप्तमी तिथि को हस्त नक्षत्र हो या रविवार हो या सूर्य संक्रान्ति हो तो वह तिथि समस्त कामनाओं को पूर्ण करने वाली होती है।
-यदि पञ्चक लगने के पूर्व मृत्यु हो गई हो और दाह संस्कार पञ्चक में हो तो सिर्फ पुत्तलों का विधान करें।
-यदि मृत्यु भी पञ्चक में हुई हो और अन्त्येष्टि भी पञ्चक में हो तो पुत्तला दाह तथा शान्ति दोनों कर्म करना चाहिए। ( धर्म सिन्धु, निर्णय सिन्धु)
-पञ्चक शान्ति सपिण्डीकरण के पूर्व एकादशा अथवा द्वादशा को करना चाहिए।
-कपाल क्रिया के बाद अन्त्येष्टि करने वाले को जोर से रोना चाहिए। इससे मृत प्राणी को सुख मिलता है। (गरुड़ पुराण सारोद्धार 10/59)
-कपाल क्रिया के बाद अन्त्येष्टि कर्ता एक – एक समिधा (एक वित्ते की यज्ञीय लकड़ी) लेकर चिता की सात प्रदक्षिणा करे और प्रदक्षिणा के अन्त में “क्रव्यादाय नमस्तुभ्यं” कहकर एक-एक समिधा चिता में डालता जाए।
-यदि गङ्गा किनारे अन्त्येष्टि की गई हो तो दाह – संस्कार के बाद अस्थियों को तत्काल गङ्गा में प्रवाहित कर देना चाहिए। अस्थि संचयन की आवश्यकता नहीं रहती है।
-मृत्यु के बाद 10 दिनों के भीतर गङ्गा में अस्थि प्रवाहित कर देना चाहिए।

विजय अड़ीचवाल