विभाग ने बताया- गर्मी में बिजली बिल बढ़ने से कैसे रोके

गर्मी का मौसम (Summer season) जल्द ही शुरू होने वाला है और इस मौसम में न केवल फ्रीज का उपयोग भी बढ़ जाता है वहीं कूलर व पंखे भी दिन भर ही नहीं बल्कि रात को भी खूब चलते है और इस कारण बिजली (Electricity) का बिल भी अन्य दिनों की अपेक्षा बढ़ कर ही आता है।

भोपाल। गर्मी का मौसम (Summer season) जल्द ही शुरू होने वाला है और इस मौसम में न केवल फ्रीज का उपयोग भी बढ़ जाता है वहीं कूलर व पंखे भी दिन भर ही नहीं बल्कि रात को भी खूब चलते है और इस कारण बिजली (Electricity) का बिल भी अन्य दिनों की अपेक्षा बढ़ कर ही आता है। ऐसी स्थिति में विद्युत वितरण कंपनी ने ही उपभोक्ताओं को यह बताया है कि वे बिजली के बिल की बढ़ोतरी कैसे रोक सकते है।

एसी के साथ चलाए पंखा

कंपनी ने उपभोक्ताओं के लिए एडवाइजरी करते हुए यह बताया है कि जो भी लोग गर्मी के मौसम में एसी चलाते है उन्हें एसी चलाने के साथ ही पंखा भी साथ में चलाना चाहिए।

फिल्टर को भी धोने की सलाह

कंपनी ने एसी चलाने वाले लोगों को यह भी सलाह दी है कि एसी के फिल्टर को हर दस बारह दिनों में धोने का काम करें। क्योंकि फिल्टर में जमने वाली धूल के कारण ज्यादा ठंडक का एहसास नहीं होता है और ऐसी स्थिति में एसी भी देर तक ही चलानापड़ता है। निश्चित ही एसी अधिक चलने से बिजली का मीटर दौड़ेगा ही एवं बिजली का बिल तो फिर ज्यादा आना ही है। इसलिए फिल्टर धोने की सलाह दी गई है। इसके अलावा जिन कमरों  में   एसी चलाया जाता है उन कमरों में एसी चलाते समय खिड़की दरवाजे भी बंद रखने के लिए सलाह दी गई है।

Must Read : 62 के हुए शिवराज, मोदी ने कहा-डायनेमिक

कूलर चलाएं लेकिन इस पर भी दें ध्यान

कंपनी अधिकारियों ने उपभोक्ताओं से यह कहा है कि यदि वे कूलर का उपयोग करते है तो गर्मी के पहले ही यह देख लें कि कहीं से ये खराब तो नहीं है और खराब है या फिर अन्य कोई तकनीकी दिक्कत है तो पहले उसे दूर करा लें। बहुत अधिक खराब होने पर नया कूलर लेकर चलाना ही बेहतर रहता है। इसके अलावा कूलर की हवा को कमरे से बाहर निकालने का भी इंतजाम करना चाहिए। कंडेसर और रेगुलेटर की जांच भी कराने की सलाह उपभोक्ताओं को दी गई है।

कहीं बिजली का वायर ऐसा तो नहीं

घर में बिजली का वायर आईएसआई मार्का होना चाहिए।  वायरिंग पुरानी है तो भी इसे बदल देना ही जरूरी है क्योंकि पुरानी व खराब वायरिंग से बिजली अधिक खर्च होती है एवं बिल अधिक आता है। गर्मी के मौसम में पुरानी व खराब वायरिंग से आग लगने का खतरा भी रहता है इसलिए जरूरी है कि वायरिंग की जांच कराते रहे या फिर आईएसआई मार्का वायरिंग की फिटिंग ही करा लें।