इंदौर। मां अहिल्या बाई की नगरी में कई करिश्माई मंदिर है, वहीं शहर के परदेशीपुरा (pardeshipura) पर ऐसा भी मंदिर है जहां एक ही प्रांगण में कई मंदिर मौजूद है जहां पर हर भगवान के दर्शन का लाभ लिया जा सकता है। परदेशीपुरा चौराहे पर शिवजी के इस मंदिर को गेंदेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर की अद्भुत बात यह है की यहां पर शिवजी की तांडव आरती की जाती है, और वह भी एक पांव पर खड़े होकर।

Read More : शिवराज कैबिनेट की मीटिंग में हुए ये बड़े फैसले, मुख्यमंत्री योजना को मिली मंजूरी, 800 करोड़ रूपए में होंगे विकास कार्य

शिवजी के इस मंदिर में है 12 ज्योर्तिलिंग

गेंदेश्वर महादेव मंदिर में 12 ज्योर्तिलिंग और चारों धाम की प्रतिमाएं स्थापित है। यहां मौजूद ज्योर्तिलिंग और चार धाम के दर्शन के लिए लोग दूर दराज से अपनी मनोकामना लेकर आते है। मंदिर में होने वाली तांडव आरती को देखने के लिए भक्तो की भीड़ लगी रहती है।

Read More : धीरेंद्र शास्त्री को धमकी देने के मामले में शिवराज सरकार ने दिए STI जांच के आदेश

15 साल से चली आ रही तांडव आरती चलती है लगभग एक घंटा

सावन के महीने में यहां भक्तों का जमावड़ा ज्यादा लगा रहता है, कहते है देश में यह एक ऐसा मंदिर है जहां तांडव आरती की जाती है, मंदिर के पुजारी 1100 रुद्राक्ष को धारण करके एक पांव पर खड़े होकर लगभग 1 घंटे आरती करते है। वहीं पंडित जी तांडव आरती के दौरान अन्य मुद्राओं का प्रदर्शन भी करते है।

पूरे वर्ष होते रहते है विशेष अनुष्ठान

परदेशीपुरा स्थित इस मंदिर में प्रसिद्ध आरती के साथ साथ पूरे साल विशेष अनुष्ठान होते रहते है। यहां पर अलग अलग प्रकार से श्रृंगार किया जाता है। वहीं महाशिवरात्रि, हरतालिका, जन्माष्टमी, तीज, गुरुपूर्णिमा, सावन सोमवार और अन्य उत्सव पर विशेष श्रृंगार किया जाता है। यहां कई भक्त भगवान को बेल पत्र और अन्य पूजन सामग्री चढ़ाते है।