क्या आप जानते है क्यों पड़ा रावण का नाम ‘दशानन’

0
315
dashanan_ravan

Shiva had given the name to Ravana,’Dashanaan’

हमने रावण के 10 सिरों की कहानिया सूनी होगी इसमें दो प्रकार के मत है एक मत के अनुसार रावण के दस सिर नही थे, जबकि वो केवल एक 9 मोतियों की माला से बना एक भ्रम था जिसको उसकी माता ने दिया था। दुसरे मत के अनुसार जो प्रचलित है कि जब रावण शिवजी को प्रसन्न करने के लिए घोर तप कर रहा था।

Image result for shivji और रावन
via

तब रावण ने खुद अपने सिर को धड से अलग कर दिया था जब शिवजी ने उसकी भक्ति देखी तो उससे प्रसन्न होकर हर टुकड़े से एक सिर बना दिया था जो उसके दस सर थे।

शिवजी ने ही रावण को रावण नाम दिया था। ऐसा कथाओं में बताया जाता है कि रावण शिवजी को कैलाश से लंका ले जाना चाहता था लेकिन शिवजी राजी नही थे तो उसने पर्वत को ही उठाने का प्रयास किया। इसलिए शिवजी ने अपना एक पैर कैलाश पर्वत पर रख दिया जिससे रावण की अंगुली दब गयी हटी।

Image result for shivji और रावन
via

दर्द के मारे रावण जोर से चिल्लाया लेकिन शिवजी की ताकत को देखते हुए उसने शिव तांडव स्तोत्र का निर्माण किया था। शिवजी को ये बहुत अजीब लगा कि दर्द में होते हुए भी उसने शिव तांडव किया तो उसका नाम रावण रख दिया जिसका अर्थ था जो तेज आवाज में दहाड़ता हो।

रावण को दशानन कहते हैं। उसका नाम दशानन उसके दशग्रीव नाम पर पड़ा। कहते हैं कि महातपस्वी रावण ने भगवान शंकर को एक-एक कर अपने दस सिर अर्जित किए थे।

Image result for shivji और रावन
via

उस कठोर तपस्या के बल पर ही उसे दस सिर प्राप्त हुए, जिन्हें लंका युद्ध में भगवान राम ने अपने बाणों से एक-एक कर काटा था।

यदि रावण ने कठोर तपस्या से अर्जित अपने उन दस सिरों की बुद्धि का सार्थक और सही इस्तेमाल किया होता,तो शायद इतिहास में अपनी प्रकांड विद्वता के लिए अमर हो जाता और लोग उससे घृणा नहीं करते, बल्कि उसकी पूजा करते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here