अन्य वर्गों के साथ सामान्य वर्ग को भी मिले आरक्षण, विधायक ने राज्यपाल को लिखा पत्र

वर्तमान में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व पिछड़ा वर्ग को आरक्षण का लाभ दिया जा रहा है जो इन वर्गों की उन्नति के लिये आवश्यक भी है।

विधायक नारायण त्रिपाठी ने राजयपाल को पत्र लिख कर अन्य वर्गों की भाँति सामान्य वर्ग को भी आरक्षण दिये जाने का कहा है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि वर्तमान में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व पिछड़ा वर्ग को आरक्षण का लाभ दिया जा रहा है जो इन वर्गों की उन्नति के लिये आवश्यक भी है। इन वर्गों को दिये जा रहे आरक्षण की निरंतरता के साथ ही यह भी आवश्यक है कि सामान्य वर्ग में सम्मिलित एक बड़ी जनसंख्या आरक्षण की सुविधा से वंचित है, इस वर्ग में भी पिछड़े, निर्धन व वंचित लोग हैं, जिन्हें सामाजिक न्याय के तहत समाज की मुख्यधारा में लाना जरूरी है।

आरक्षण से ही इस वर्ग की उन्नति हो सकती है। केन्द्र सरकार ने सामान्य वर्ग को आर्थिक आधार पर 10% आरक्षण की व्यवस्था की है, किन्तु सामान्य वर्ग को वर्तमान में अन्य वर्गों की तरह ही निश्चित प्रतिशत में आरक्षण की आवश्यकता है, ताकि शासकीय सेवाओं व अन्य अवसरों में इस वर्ग की भी आनुपातिक भागीदारी सुनिश्चित हो सके। माननीय, सामाजिक न्याय के सिद्धांत के अनुरूप सामान्य को भी अनारक्षित श्रेणी से पृथक एक निश्चित प्रतिशत में आरक्षण दिये जाने के निर्देश देने की कृपा करें, ताकि सामान्य वर्ग में सम्मिलित जातियाँ भी आरक्षण का लाभ लेकर उन्नति कर समाज की मुख्यधारा में सम्मिलित हो सके।