Koo पर लोगों को पसंद आ रहा Modi का यह खास वीडियो

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार (पीएमआरबीपी) प्राप्त करने वाले बच्चों के साथ आज माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खास बातचीत की। इस दौरान पीएम मोदी द्वारा विजेताओं को डिजिटल सर्टिफिकेट भी प्रदान किए गए। इस वर्ष 29 बच्चों का चयन इस पुरस्कार के लिए किया गया है, जिसकी जानकारी MP MyGov के ऑफिशियल Koo हैंडल के माध्यम से दी गई है।

ALSO READ: जल जीवन मिशन : अब तक करीब 46 लाख नल कनेक्शन

इस Koo पोस्ट में कहा गया है, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज राष्‍ट्रीय बाल पुरस्‍कार विजेताओं से बातचीत की। इंदौर, मध्‍यप्रदेश के अवि शर्मा से बातचीत में प्रधानमंत्री जी ने पूछा कि आप तो लेखक हैं, बालमुखी रामायण लिखी है… आपका बचपन बचा है या खत्‍म हो गया? जवाब में शर्मा ने कहा कि उन्‍हें पौराणिक कथाओं से प्रेरणा मिलती है।”

https://www.kooapp.com/koo/mpmygov/1acf523e-8e4c-4135-a55c-709feceb18c8

बता दें कि भारत सरकार द्वारा विजेताओं को 1 लाख रुपए की राशि भी प्रदान की जाती है। ये पुरस्कार राष्ट्रपति भवन में समारोह के दौरान राष्ट्रपति द्वारा दिए जाते हैं। कार्यक्रम, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी और राज्य मंत्री डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई की उपस्थिति में संपन्न हुआ।

अवि शर्मा को पुरस्कार मिलने की यह है वजह
कहते हैं प्रतिभाएं उम्र की मोहताज नहीं होती.. जिस उम्र में बच्चे मोबाइल पर गेम खेलने व्यस्त रहते हैं, उस उम्र में अवि शर्मा ने ऐसा कारनामा कर दिखाया है, जिसे सुनकर लोग हैरान हैं। 12 वर्ष के अवि शर्मा ने 250 छंदों की बालमुखी रामायण लिख डाली है, जिसके लिए उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

प्रधानमंत्री को दिया श्रेय
अवि से रामायण को लेकर प्रधानमंत्री ने काफी देर बातचीत की। प्रधानमंत्री ने अवि से पूछा कि आपने तो बाल रामायण भी लिखी है और बच्चों को भी पढ़ाते हो, व्याख्यान भी करते हो, तो क्या अभी-भी आप में बचपन बचा है या यह खत्म हो गया। तो अवि ने कहा कि पौराणिक कथाएं देख-सुनकर मुझे प्रेरणा मिलती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसकी प्रेरणा आपको कहां से मिली, तो इसका श्रेय भी अवि ने प्रधानमंत्री को दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान वर्ष 2020 में देशभर में लगे लॉकडाउन के दौरान रामायण का री-टेलिकास्ट हुआ था, उसी से मुझे बालमुखी रामायण लिखने की प्रेरणा मिली। रामायण को फिर से प्रसारित करने के लिए आपका धन्यवाद।

मध्यप्रदेश की माटी में है खास बात
अवि से चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मध्य प्रदेश की माटी में ही कुछ खास बात है, जो यहाँ इतने ज्ञानी लोग जन्म लेते हैं। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री के कहा कि करीब 50 साल पहले की बात है, जब उमा भारती बच्ची थी और कथा सुनाया करती थीं। तब वे एक बार गुजरात में आई थीं और मैं भी उनकी कथा सुनने गया था। तब मैं उनसे बहुत प्रभावित हुआ था।

गर्ल्स चाइल्ड डे के लिए दी बधाई: पीएम मोदी ने संवाद के दौरान गर्ल्स चाइल्ड डे के अवसर पर देशभर की बेटियों को बधाइ दी।

आखिर कौन हैं अवि शर्मा
अवि शर्मा इंदौर के रहने वाले हैं। 12 वर्ष के अवि सातवीं के छात्र हैं और मोटिवेशनल स्पीकर हैं। वे 120 छात्रों को वैदिक गणित पढ़ाते हैं। इसके साथ ही अवि ने आवाज से चलने वाला कंप्यूटर प्रोग्राम तैयार किया है। बालमुखी रामायण की प्रति अवि ने पीएम मोदी को भी भेजी है। अवि की माँ विनिता और उनके पिता अमित शर्मा हमेशा उनका साथ देते हैं। अवि छोटी-सी उम्र में कई उपलब्धियाँ हासिल कर चुके हैं। इसके साथ ही अवि को राष्ट्रीय साइबर ओलंपियाड और अंतरराष्ट्रीय अंग्रेजी ओलंपियाड में जोनल पदक भी मिल चुके हैं।