Panchak June 2022: शुरू हो चूके है मृत्यु पंचक, भूलकर भी न करे ये काम

जब पंचक शानिवार से शुरू होते हैं तो उन्हें मृत्यु पंचक कहते हैं। ज्योतिष धर्म में इन पंचक को अशुभ माना गया है और इस पंचक के दौरान सबसे ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए।

हिंदू धर्म में किसी भी काम की शुरुआत मुहूर्त देखकर की जाती है। हर दिन, हर समय, हर घंटे का भी अपना एक महत्व होता है। ठीक उसी प्रकार महीने में कुछ दिन ऐसे होते हैं जिनमें भूलकर भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। जी हां, हिंदू पंचांग के मुताबिक हर महीने में 5 दिन ऐसे आते हैं। जिनमें कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है और इसे पंचक काल कहा जाता है। पंचक पांच प्रकार के होते हैं रोग पंचक, राज पंचक, मृत्यु पंचक, अग्नि पंचक, चोर पंचक।

आपको बता दें कि इस महीने लगने वाले पंचक मृत्यु पंचक है यानी कि 8 जून से मृत्यु पंचक शुरू हो चुके हैं, जो कि 23 जून 2022 तक रहेगा। मृत्यु पंचक को लेकर लोगों के मन में डर का भाव सबसे ज्यादा होता है। जब पंचक शानिवार से शुरू होते हैं तो उन्हें मृत्यु पंचक कहते हैं। ज्योतिष धर्म में इन पंचक को अशुभ माना गया है और इस पंचक के दौरान सबसे ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। 23 जून 2022 तक कोई भी शुभ कार्य नहीं करे और उन कार्यों को भी नहीं करना चाहिए जो करने से मना किए गए हो।

Must Read- Chaturmas 2022 : इस बार चातुर्मास में बन रहा 17 सोमवार का योग, 12 दिन है बेहद खास

पंचक काल में ये कार्य भुलाकर भी नहीं करें

पंचक काल के दौरान कभी भी घर की छत नहीं डलवाएं और ना ही चौखट लगवाए। पंचक के दौरान कभी भी लकड़ी का लकड़ी से बना सामान खरीदने से बचना चाहिए, लकड़ी से बने सामान की खरीदारी नहीं करनी चाहिए। पलंग, चारपाई, फर्नीचर नहीं खरीदें ऐसा करने से अशुभ फल देता है। पंचक के दौरान कभी भी दक्षिण दिशा की यात्रा नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसे यमराज की दिशा माना गया है। पंचक के दौरान किसी की मृत्यु हो जाए तो योग्य ब्राह्मण से पूछ कर विधि-विधान के साथ अंतिम संस्कार करें और मृतक के साथ चार नारियल या लड्डू रखकर दाह संस्कार करें।

साल 2022 के पंचक

15 जुलाई 2022 शुक्रवार से 20 जुलाई बुधवार तक
12 अगस्त 2022 शुक्रवार से 16 अगस्त मंगलवार तक
9 सितंबर 2022 शुक्रवार से 13 सितंबर मंगलवार तक
6 अक्टूबर 2022 गुरुवार से 10 अक्टूबर सोमवार तक
2 नवंबर 2022 बुधवार से 6 नवंबर रविवार तक
26 दिसंबर 2022 सोमवार से 31 दिसंबर शनिवार तक