नई दिल्ली। कंगाली के भयंकर दौर से जूझ रहे पाकिस्तान में हालत यह है कि वहां लोगों को खाने का आटा नहीं मिल पा रहा है। इस बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ का एक बयान सामने आया है जिसमें पड़ोसी देश के सुर बदले-बदले नजर आ रहे हैं। पाकिस्तान की आर्थिक हालत इन दिनों बेहद खराब है। वह अन्य देशों की मदद से इस बुरे दौर से निकलने की कोशिश कर रहा है।

आर्थिक संकट के बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ(PM Shehbaz Sharif)  का भारत को लेकर एक बयान सामने आया है। शहबाज शरीफ बोले, “भारत हमारा पड़ोसी है। हम पड़ोसी मुल्क हैं। खुलकर बात करूं तो हम अपनी इच्छा से पड़ोसी नहीं है, पर हमें साथ रहना है। यह हम पर निर्भर है। हमने भारत के साथ तीन युद्ध लड़े हैं और पाकिस्तान अपना सबक सीख चुका है।

Also Read – ‘पठान’ में होंगे बड़े बदलाव, शाहरुख खान की फिल्म को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने दिए नए निर्देश

शहबाज शरीफ ने कहा कि भारत और पाकिस्तान पड़ोसी हैं और उन्हें एक दूसरे के साथ रहना है। यह हमारे ऊपर है कि हम शांति से रहें और प्रगति करें या एक-दूसरे से झगड़ा करें, और समय के साथ संसाधनों को बर्बाद करें। भारत के साथ हमारे तीन युद्ध हुए हैं और इसने लोगों के लिए और अधिक दुख, गरीबी और बेरोजगारी ही आई है। हमने अपना सबक सीख लिया है और हम शांति से रहना चाहते हैं, बशर्ते हम अपनी वास्तविक समस्याओं को हल करने में सक्षम हों।

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से तीन युद्धों में पाकिस्तान ने सबक सीखे हैं और वे अब शांति चाहते हैं। उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी अपील की। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान शांति चाहता है, लेकिन कश्मीर में जो कुछ भी हो रहा है, वह रुकना चाहिए। पाकिस्तान के पीएम ने कहा, ‘भारतीय नेतृत्व और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मेरा संदेश है कि आइए हम टेबल पर बैठें और कश्मीर जैसे ज्वलंत मुद्दों को हल करने के लिए गंभीर और ईमानदार बातचीत करें।

शहबाज शरीफ ने कहा कि हम गरीबी को खत्म करना चाहते हैं, देश में खुशहाली लाना चाहते हैं। हमारे लोगों को अच्छी शिक्षा, बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं और रोजगार देना चाहते हैं। हम हमारे संसाधनों को बमों और गोला-बारूद पर बर्बाद नहीं करना चाहते। यही संदेश है, जो मैं पीएम मोदी को देना चाहता हूं। शहबाज शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान ने भारत के साथ अब तक तीन युद्ध लड़े हैं और पाकिस्तान अपना सबक सीख चुका है।