Indore News

सरकार देश के मतदाताओं के वोटर आईडी कार्ड को अब उनके आधार कार्ड के साथ लिंक करवाने की योजना बना रही है। ये इसलिए क्योंकि डुप्‍लीकेट वोटरों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में इसको लेकर ये योजना अब जल्द ही लागू कर दी जाएगी। जिसमें सभी लोगों को अपने वोटर आईडी कार्ड को आधार से लिंक करवाना अनिवार्य हो जाएगा। जानकारी के मुताबिक, कैबिनेट की ओर से इसके विधेयक को पहले ही मंजूरी दे दी गई थी। अब आज इस विधेयक को लोकसभा में पेश किया जाना है।

बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त एचएस ब्रह्मा ने इस संबंध में बात की है। ऐसे में उनका कहना है कि आधार को वोटर आईडी कार्ड से जोड़ने से देश में बड़ी संख्या में फर्जी मतदाताओं की समस्या खत्म होगी। साथ ही चुनाव डेटाबेस को ठीक किया जा सकेगा। दरअसल, इस पर विचार एचएस ब्रह्मा ने ही 2012 में पहली बार किया था।

उन्होंने कहा कि उन्होंने मुख्य चुनाव आयुक्त बनने से पहले अपने 2010-2015 के कार्यकाल के दौरान 2012 में चुनाव आयुक्त के रूप में इसका प्रस्ताव रखा था। आगे उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करेगा कि कोई डुप्लीकेट वोटर आईडी कार्ड न हो और लोगों को तब मदद मिलेगी जब वे शहर में शिफ्ट करना चाहते हैं और वहां अपना वोट डालना चाहते हैं। मुझे नहीं लगता कि गोपनीयता का मुद्दा इतनी बड़ी समस्या है जिसे हम हल नहीं कर सकते। सावधानियां बरती जा सकती हैं।