एमपी बोर्ड: 10वीं और 12वीं छात्रों के लिए 58 न्यू सब्जेक्ट लिस्ट तैयार, इस तरह मिलेगा लाभ

एमपी बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए अब 58 नए सब्जेक्ट लिस्ट तैयार किए गए हैं। अब छात्र 58 नए विषयों की पढ़ाई कर पाएंगे।

एमपी बोर्ड छात्रों के लिए 58 न्यू सब्जेक्ट लिस्ट तैयार की गई है। कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए अब 58 न्यू सब्जेक्ट लिस्ट तैयार हैं। अब छात्र 58 नए विषयों की भी पढ़ाई कर पाएंगे। लेकिन फाइनल अप्रूवल के बाद इसे पाठयचर्या के बाद प्रपोजल के लिए भेजा जाएगा। लेकिन अप्रूवल मिलते ही छात्रों के लिए लिस्ट ओपन की जाएगी। मिली जानकारी के अनुसार 10वी में 19 स्किल बेस्ड विषयों को शामिल किया जाएगा। इसके अलावा 12 वी में 39 विषयों को भी शामिल करने की योजना तैयार की गई है। साथ ही नए विषयों के साथी एमपी बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन के छात्रों को ऑल राउंड डेवलपमेंट किए जाने की तैयारी है। माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से मिले निर्देश के मुताबिक सभी संस्थान को विशेष निर्देश जारी किए गए हैं।

दरअसल माध्यमिक शिक्षा मंडल के द्वारा जारी आदेश की माने तो कौशल आधारित विषयों का चयन तृतीय भाषा के स्थान पर किया जा सकता है। सबसे खास बात कि कौशल आधारित विषय का चयन करने वाले छात्रों को एक महत्वपूर्ण सुविधा भी मिलेंगी। महत्वपूर्ण विषय का ध्यान रखना उनके लिए बेहद अनिवार्य होगा।

Must Read- NEET: परीक्षा के लिए जल्द जारी किए जाएंगे एडमिट कार्ड, ऐसे करें डाउनलोड

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि सभी संस्थान को कार्यवाही सुनिश्चित कर यथासंभव छात्रों को इसकी जानकारी दी जाए। आपको बता दें कि नई शिक्षा नीति लागू होने के बाद एमपी बोर्ड लगातार शिक्षा व्यवस्था में भी बदलाव कर रहा है। इस दौरान व्यवसायिक कोर्स के चलन के साथ ही अब पाठ्यचर्या कमेटी को प्रपोजल भी भेजा गया है। जल्द ही अप्रूवल मिलने के बाद कक्षा 10वीं और 12वीं के विषयों की संख्या में बढ़ोतरी की जाएगी और इसका लाभ छात्रों को मिलेगा।

परीक्षा नियंत्रक के हस्ताक्षर के बाद आदेश जारी करते हुए सभी छात्र छात्राओं को भाषा विषय में हिंदी और अंग्रेजी लेना अनिवार्य होगा और भाषा में किसी एक भाषा का चयन करने की छूट मिलेंगी। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने नए सत्र 2022- 23 के लिए संशोधित दिशा-निर्देश भी जारी करते हुए व्यवसायिक परीक्षा के प्रवेश परीक्षा को लेकर भी नए दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। हाई स्कूल और हाई सेकेंडरी स्कूल में नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क को बंद करने की तैयारी है।