इन अंगों पर है तिल, तो जानें अपना भाग्य

आप सभी जानते हैं कि हमारे शरीर के विभिन्न अंगों पर कई तरह के निशान होते हैं, उनमें से कई जन्म से ही होते हैं तो कई जीवनकाल के दौरान पैदा होते हैं। इन निशानों को हम तिल, मस्सा आदि कहते हैं।

0
115
til

आप सभी जानते हैं कि हमारे शरीर के विभिन्न अंगों पर कई तरह के निशान होते हैं, उनमें से कई जन्म से ही होते हैं तो कई जीवनकाल के दौरान पैदा होते हैं। इन निशानों को हम तिल, मस्सा आदि कहते हैं। लेकिन क्या आप तिल, मस्सा आदि से व्यक्ति के चरित्र के बारे में जानते हैं। नहीं जानते होंगे तो चलिए हम आपको बताते है। दरअसल, ज्योतिष शास्त्र में शरीर के अलग-अलग अंगों पर तिल होने का अलग-अलग महत्व बताया गया है। तो चलिए जानते है शरीर पर तिल होने का महत्व और नुकसान।

इन जगहों पर तिल बताते हैं जीवन का भविष्य –

कमर पर तिल होना इस बात का संकेत करता है कि व्यक्ति को उम्र भर कई परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। वहीं पेट पर तिल होना यह दर्शाता है कि व्यक्ति उत्तम भोजन का इच्छुक है।

पीठ पर तिल – जिसकी पीठ पर तिल होता है वह व्यक्ति अपने जीवन काल में कई यात्राएं करता है। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति के सीधे पैर के तलवे पर या पैर के अंगूठे पर तिल हो तो व्यक्ति के विदेश यात्रा करने के योग बनते हैं।

नाक पर तिल वाले व्यक्ति को भी बड़ी यात्राओं का सुख मिलता है। ऐसे लोग भी विदेश की यात्रा कर सकते हैं। यह व्यक्ति प्रतिभासंपन्न और सुखी होते हैं। महिलाओं की नाक पर तिल उनके सौभाग्यशाली होने का सूचक माना जाता है।

यदि किसी व्यक्ति के माथे पर तिल हो तो व्यक्ति मान-सम्मान प्राप्त करता है। माथे की दाहिनी ओर तिल वाले व्यक्ति धनी होते हैं। अगर दोनों भौंहों के बीच तिल हो तो व्यक्ति लंबी दूरी की यात्रा करता है।

होंठ पर तिल वाले व्यक्ति बहुत प्रेमी हृदय होते हैं। यदि तिल होंठ के नीचे हो तो आपकी जेब पर इसका असर दिखाई देता है।

गाल पर लाल तिल शुभ फल देता है। बाएं गाल पर कृष्ण वर्ण तिल व्यक्ति को संघर्षशील, किंतु दाएं गाल पर धनी बनाता है।

जिसकी दाई पुतली पर तिल हो वो व्यक्ति उच्च विचार वाले होते हैं। पुतली पर तिल वाले लोग सामान्यत: अधिक भावुक भी होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here