मोदीजी बताएं कि हवाई हमले में कितने आतंकी मरे : दिग्विजय सिंह

0
digvijay_singh

भारतीय वायुसेना ने पीओके के बालाकोट में हवाई हमला कर आतंकियों के कैंप तबाह किए थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस हमले में करीब 300 से 350 आतंकी मारे गए थे। इस कार्रवाई में मारे गए आतंकियों की संख्या को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। इसी बीच मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने हवाई हमले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से एक के बाद एक कई सवाल किए। दिग्विजय ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए पूछा कि सवाल न तो सत्ता का और न ही सियासत का, बल्कि सवाल उन मां और बहनों का है, जिन्होंने अपने बेटों और भाइयों को खोया है। इन सवालों को जवाब देना चाहिए। उन्होंने ने कहा कि भाजपा सेना की सफलता को अपनी सफलता साबित कर चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही है। इसी बीच दिग्विजय सिंह ने पुलवामा आतंकी हमले को दुर्घटना कह दिया। इसके बाद सियासत गरमा गई है, बल्कि इस मुद्दे पर कांग्रेस को घेर रही है।


मंगलवार सुबह दिग्विजय सिंह ने ट्विटर कर लिखा है कि ‘हमें हमारी सेना पर उनकी बहादुरी पर गर्व है व सम्पूर्ण विश्वास है। सेना में मैंने मेरे अनेकों परिचित व निकट के रिश्तेदारों को देखा है किस प्रकार वे अपने परिवारों को छोड़ कर हमारी सुरक्षा करते हैं। हम उनका सम्मान करते हैं।‘


दूसरे ट्वीट में लिखा है कि ‘किन्तु पुलवामा दुर्घटना के बाद हमारी वायु सेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक के बाद कुछ विदेशी मीडिया में संदेह पैदा किया जा रहा है, जिससे हमारी भारत सरकार की विश्वसनीयता पर भी प्रश्न चिह्न लग रहा है।‘

तीसरे ट्वीट में लिखा है कि ‘प्रधानमंत्री जी आपकी सरकार के कुछ मंत्री कहते हैं 300 आतंकवादी मारे गए। भाजपा अध्यक्ष कहते हैं 250 मारे हैं। योगी आदित्यनाथ कहते हैं 400 मारे गए और आपके मंत्री एसएस आहलूवालिया कहते एक भी नहीं मरा। और आप इस विषय में मौन हैं। देश जानना चाहता है कि इसमें झूठा कौन है।‘


दिग्विजय सिंह ने लिखा है कि ‘मोदी जी सवाल न सियासत का है न सत्ता का। सवाल उन बिलखती बहनों का है जिन्होंने अपने भाई खोए हैं सवाल उस मां का है, जिसके लाड़ले की शाहदत हुई है और सवाल उस वीरांगना का है जिसने अपना पति खोया है। इनके सवालों का जवाब आप कब देंगे?

https://twitter.com/digvijaya_28/status/1102731443585802240
दिग्विजय सिंह ने पीएम से आखिरी ट्वीट कर सवाल किया, आप, आपके वरिष्ठ नेता और आपकी पार्टी सेना की सफलता को जिस प्रकार से भाजपा केवल अपनी सफलता साबित कर चुनावी मुद्दा बनाने का प्रयास कर रहे हैं, वह हमारे देश के सुरक्षा कर्मियों की बहादुरी और समर्पण का अपमान है। देश का हर नागरिक भारतीय सेना और समस्त सुरक्षा कर्मियों का सम्मान करता है।