गणेश जी के आदेश से विक्रमादित्य ने स्थापित किया चिंतामन गणेश मंदिर

0
38
chintaman_ganesh

Ganesh ji gave order to King Vikramaditya, to establish idol here

भगवान गणेश के अनेकों प्रसिद्ध मंदिरों में चिंतामन गणेश मंदिर भी हैं । भारत में कुल चार चिंतामन मंदिर हैं । कहते हैं यहां भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. भोपाल, उज्जैन, गुजरात और रणथंभौर में इन गणपति मंदिरों की सिद्धियां इनकी स्थापना की चर्चित कहानियों में छुपी हैं । भगवान गणेश जी ने राजा विक्रमादित्य को आदेश दिया था यहां मूर्ति स्थापित करने का .

Image result for भोपाल, उज्जैन, गुजरात और रणथंभौर में चिंतामन गणपति मंदिर
via

मध्य प्रदेश में भोपाल से 2 किलोमीटर की दूरी पर सीहोर में स्थित चिंतामन गणेश मंदिर की दंतकथा बेहद रोचक है. माना जाता है कि इस मंदिर की स्थापना विक्रमादित्य ने की थी लेकिन इसकी मूर्ति उन्हें स्वयं गणपति ने दी थी. प्रचलित कहानी के अनुसार एक बार राजा विक्रमादित्य के स्वप्न में गणपति आए और पार्वती नदी के तट पर पुष्प रूप में अपनी मूर्ति होने की बात बताते हुए उसे लाकर स्थापित करने का आदेश दिया.

Image result for भोपाल, उज्जैन, गुजरात और रणथंभौर में चिंतामन गणपति मंदिर
via

राजा विक्रमादित्य ने वैसा ही किया. पार्वती नदी के तट पर उन्हें वह पुष्प भी मिल गया और उसे रथ पर अपने साथ लेकर वह राज्य की ओर लौट पड़े. रास्ते में रात हो गई और अचानक वह पुष्प गणपति की मूर्ति में परिवर्तित होकर वहीं जमीन में धंस गई.

Image result for भोपाल, उज्जैन, गुजरात और रणथंभौर में चिंतामन गणपति मंदिर
via

राजा के साथ आए अंगरक्षकों ने जंजीर से रथ को बांधकर मूर्ति को जमीन से निकालने की बहुत कोशिश की पर मूर्ति निकली नहीं. तब विक्रमादित्य ने गणमति की मूर्ति वहीं स्थापित कर इस मंदिर का निर्माण कराया । यहां हर माह गणेश चतुर्थी पर भंडारा करने की प्रथा है. यहां आने वाले श्रद्धालु मंदिर के पिछले हिस्से में उल्टा स्वास्तिक बनाकर मन्नत रखते हैं और पूरी हो जाने पर दुबारा आकर उसे सीधा बनाते हैं । स्थानीय लोगों के अनुसार 60 साल पहले यहां प्लेग की बीमारी फैली थी. तब इसी मंदिर में लोगों ने इसके ठीक होने की प्रार्थना की और प्लेग के खत्म हो जाने पर गणेश चतुर्थी मनाए जाने की मन्नत रखी. प्लेग ठीक हो गया और तब से हर माह गणेश चतुर्थी पर भंडारे की यह प्रथा चली आ रही है.

Related image
via

विक्रम संवत् 155 मे मंदिर का निर्माण कराया गया। आज भी गणेश जी की प्रतिमा आधी जमीन मे धसी हुई है। मंदिर का जिर्णौद्धार एवं सभा मंडप का निर्माण, बाजीराव पेशवा प्रथम ने कराया। मंदिर श्री यंत्र के कोणो पर निर्मित है। चिंतामन सिद्ध गणेश की स्वयं भू प्रतिमा भारत में चार स्थानो पर है । भारत मे स्थित चार स्वयं-भू चिंतामन गणेश मंदिर में से एक अति प्राचीन विक्रमादित्य कालीन गणेश मंदिर मध्यप्रदेश के सीहोर शहर मे स्थित है। जिसका प्राचीन नाम सिद्धपुर है.

Image result for भोपाल, उज्जैन, गुजरात और रणथंभौर में चिंतामन गणपति मंदिर
via

1. रणथंभोर, सवाई माधोपुर राजस्थान
2. सिद्धपुर, सीहोर
3. अवंतिका, उज्जैन
4. सिद्धपुर,गुजरात
इस मंदिर की मूर्ति भारत में चिंतामन उत्पन्न स्वाभाविक रूप से किया जाता है। चिंतामन सिध्द गणेश भारत के मध्य प्रदेश राज्य के सीहोर में स्थित है। गणेश मूर्ति 2200 से अधिक साल पुराना है। इसलिए आप इस शक्तिशाली जगह के महत्व की कल्पना कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here