नामांकन का आखिरी दिन, बॉलीवुड के इन दो दिग्गजों ने भरा परचा

0
sunny deol

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के लिए सोमवार को मतदान जारी है। अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए लोग सुबह से ही पोलिंग बूथ पर पहुंच रहे है। इस चरण में बॉलीवुड और उद्योग जगत की कई हस्तियों ने वोट डाला। इसके अलावा आज लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन का भी आखिरी दिन है। इसे देखते हुए उम्मीदवार अपना नामांकन भरने पहुंच रहे है।

सनी देओल ने भरा पर्चा

बॉलीवुड अभिनेता और पंजाब के गुरुदासपुर से भाजपा के उम्मीदवार सनी देओल ने गुरदासपुर से अपना नामांकन किया है। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय मंत्री वीके सिंह, जितेंद्र सिंह और उनके भाई बॉबी देओल भी मौजूद थे। सनी देओल के साथ कवरिंग कैंडिडेट के तौर पर पूर्व बीजेपी अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने भी अपना नामांकन किया। नामांकन जमा करने से पहले सनी देओल ने स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका।

हलफनामे में सनी देओल ने अपना असली नाम ‘अजय सिंह देओल’ बताया है। सनी देओल नामांकन के बाद रैली करेंगे, जिसके बाद उन्हें मुंबई वोट डालने जाना है। 1 मई के बाद सनी लगातार अपने क्षेत्र में प्रचार करेंगे। उनका मुकाबला कांग्रेस के सुनील जाखड़ से है।

शत्रुघ्न सिन्हा का नामांकन

सनी देओल के अलावा कांग्रेस के प्रत्याशी शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार की पटना साहिब लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल किया है। यहां से शत्रुघन सिन्हा का मुकाबला भाजपा के रविशंकर प्रसाद से होगा। शत्रुघ्न सिन्हा ने रविवार को पटना सिटी का दौरा कर तख्त हरमंदिर में पहुंचकर दशमेश पिता गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के दरबार में मत्था टेका और अपनी जीत की दुआएं मांगी। गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी ने सिरोपा भेंट कर उन्हें सम्मानित किया।

कुछ समय पहले ही थमा था कांग्रेस का हाथ

गौरतलब है कि शत्रुघ्न सिन्हा ने कुछ समय पहले ही कांग्रेस का हाथ थामा है। कांग्रेस ने उन्हें पहले ही बिहार में चुनाव के प्रचार के लिए शत्रुघ्न सिन्हा को स्टार प्रचारक घोषित कर दिया था। सिन्हा ने ट्वीट कर भाजपा छोड़ने का ऐलान किया था। उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि भाजपा के स्थापना दिवस पर पार्टी बड़े भारी मन से छोड़ रहा हूं। सबको पता है कि मैं भाजपा क्यों छोड़ रहा हूं।

धर्मेंद्र का संदेश

सनी देओल के पर्चा दाखिल करने से पहले उनके पिता और बॉलीवुड के ही-मैन धर्मेंद्र ने एक संदेश लिखा। धर्मेंद्र ने एक ट्वीट में लिखा कि राजनीति हमारे मुकद्दर में थी, इसलिए हम चले आए। अब लोग भली-बुरी बातें कहेंगे, सब सर माथे पर।