मानपुर से खलघाट हाईवे किया बंद, जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट पहुंचे स्थिति का जायजा लेने

धार-धामनोद मार्ग स्थित भारूड़पुरा के निचले ग्राम कोठिडा में नवनिर्मित मिट्टी के बांध लीकेज होने का मामला सामने आया है

धार-धामनोद मार्ग स्थित भारूड़पुरा के निचले ग्राम कोठिडा में नवनिर्मित मिट्टी के बांध लीकेज होने का मामला सामने
आया है बांध से लगातार पानी बह रहा है। इस मामले को प्रशासन और जन संसाधन विभाग ने गंभीरता से लेते हुए पानी का लीकेज रोकने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है। वहीं राजस्व विभाग ने बांध के निचले क्षेत्र में बसे हुए तीन गांव को अलर्ट जारी कर दिया है।

शुक्रवार को सभी गांव को खाली करवाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। उक्त वीडियो आने के बाद में स्थिति गंभीर हुई। जिस पानी के रिसाव को कल रोकने का दावा किया गया था वहां से फिर से पानी निकलना शुरू हुआ था। ग्रामीणों को स्कूल और अन्य सुरक्षित भवनों पर पहुंचाने के लिए काम तेजी से हो रह है

जल संसाधन मंत्री  तुलसीराम सिलावट धार ज़िले के कारम डैम पहुँच रहे हैं यहाँ जल संसाधन विभाग के सभी वरिष्ठ अधिकारी एवं जिला प्रशासन के अधिकारीगण द्वारा अपनी देख रेख में बाँध में हुए लीकेज से उत्पन्न परिस्थितियों में आपदा प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है

फोरलेन पर यातायात रोक दिया गया है। ग्राम गुजरी को बंद करवाया जा रहा है। कलेक्टर को पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंचे तनाव का वातावरण। गुरुवार को प्रशासन ने तमाम तैयारियां कर ली थी। यदि बांध में अचानक से कोई बड़ी समस्या आती है तो गांव वालों को सुरक्षित करने का प्लान तैयार किया जा रहा है। विभाग का कहना है कि यह सामान्य रिसाव है। इसे जल्द ही दुरुस्त कर लिया जाएगा। इसके लिए बड़े स्तर पर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसमें प्राथमिक रूप से सफलता भी मिल गई है।

बता दें कि कारम नदी पर करीब 200 कराेड़ की लागत से बांध बनाया गया है। इसमें एक मजबूत सीमेंट के बांध के अलावा जल संग्रहण के लिए मिट्टी का बांध भी बनाया गया है। इसमें वर्तमान में करीब 295 मीटर के जल स्तर तक पानी भरा हुआ है। क्षेत्र में हुई वर्षा के कारण मानसून के मध्य सत्र में ही पानी भर गया है। एक लीकेज के कारण ताबड़तोड़ में प्रशासन और जल संसाधन विभाग हरकत में आया।

इस बारे में बांध निर्माण संबंधी कार्य विभाग जल संसाधन के एसडीओ एसके सिद्दीकी ने बताया कि इसमें एक मामूली सा लीकेज हुआ। इसमें एक मोटर का पानी लगातार बह रहा है। यह बहुत बड़ा रिसाव नहीं है। उन्होंने कहा कि इससे मिट्टी के बांध में बहुत नुकसान या फूटने की स्थिति नहीं है। इसलिए इसको भी हमने बड़े स्तर पर रोकने के लिए काम शुरू कर दिया है। इसमें हम मुरम डालने से लेकर जो पानी का रिसाव रोकना में लगे है। इसके लिए बहुत तेजी से काम कर रहे है। मशानी लगाई गई है। युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है। बहुत जल्द ही इस पानी को रोकने में सफलता मिल जाएगी। कुछ हद तक हमें पानी को रोकने में सफलता मिल भी गई है। इस तरह से बांध के क्षेत्र में फिलहाल स्थिति है सभी लोगों को सुरक्षित रखा जा सके

खलघाट से इंदौर रोडआने जाने वालों के लिए हाई अलर्ट हाई अलर्ट आज दिनांक 12/ 8/ 2022 को मानपुर घाट के आगे और खलघाट के बीच में गुजरी ग्राम में स्थित कोरवा डैम की स्थिति कप देलिए आवागमन अवरुद्ध हो गया है

धार जिले में हजारों लोगों की जान खतरे में आ गई थी। यदि ईश्वर की कृपा नहीं होती तो रक्षाबंधन के दिन भारत की सबसे बड़ी घटना मध्यप्रदेश के धार जिले में होती। जल संसाधन विभाग द्वारा 340 करोड रुपए खर्च करके जो डैम बनवाया गया था। उसके निर्माण में गड़बड़ी सामने आई है। पानी का प्रेशर बढ़ने पर डैम की दीवार लीक हो गई। उसमें से भारी मात्रा में पानी निकल रहा है। समाचार लिखे जाने तक उसे रोकने की सभी कोशिशें नाकाम हो गई थी।
एबी रोड पर ट्रैफिक जाम कर दिया गया है। आसपास के सभी इलाकों को खाली करने के लिए इमरजेंसी घोषित कर दी गई है। एसडीएम, तहसीलदार और पुलिस ग्रामीणों को उनके घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर ले जा रहे हैं। पानी के रिसाव को रोकने का प्रयास लगातार किया जा रहा है। कलेक्टर सहित कई अधिकारी मौके पर मौजूद हैं।
यह सब कुछ इसलिए हो रहा है क्योंकि डैम के निर्माण में भ्रष्टाचार हुआ और जिम्मेदार इंजीनियर ने रिश्वत के बदले ठेकेदार को घटिया निर्माण करने दिया।

भारुड़पूरा में निर्माणाधीन कारम डेम में सीपेज के कारण उठाए एतिहायत कदम की जानकारी दे रहे है कलेक्टर डॉ पंकज जैन@JansamparkMP pic.twitter.com/n7kl3fsRAT

— Collector Dhar (@collectordhar) August 12, 2022