दिल्ली: राजस्थान की अशोक गेहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी के खिलाफ एक महिला पत्रकार ने दिल्ली में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया है। रिपोर्ट्स के अनुसार, पीड़िता की शिकायत पर दिल्ली के सदर बाजार थाने में मंत्री के बेटे के खिलाफ जीरो एफआईआर दर्ज हुई है।

इस जीरो एफआईआर को दिल्ली पुलिस ने सवाई माधोपुर ट्रांसफर किया है। इसके पीछे तर्क ये है कि सबसे पहले दुष्कर्म सवाई माधोपुर में ही हुआ। पीड़िता का आरोप है कि राजस्थान में मंत्री के दबाव के चलते रिपोर्ट करना संभव नहीं था इसलिए दिल्ली में रिपोर्ट दर्ज करवाई।

वहीं मंत्री महेश जोशी ने अपने बेटे पर लगे आरोपों पर कहा कि वह पूरे जीवन सत्य के रास्ते पर चले हैं। इस मामले को लेकर कानून अपना काम कर रहा है। उ मुझे अभी इस मामले में अभी इतना ही कहना है। पुलिस जांच कर रही है।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, राजस्थान के एक न्यूज चैनल में कार्यरत करीब 23 वर्षीय पीड़िता ने मंत्री के बेटे पर शादी का झांसा देकर करीब तीन महीने पहले दिल्ली के एक होटल में दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। युवती का आरोप है कि वह गर्भवती हो गई थी, उसे मारपीट कर जबरिया गर्भपात भी करवाया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, युवती का कहना है कि करीब दो साल पहले फेसबुक पर रोहित से उसकी दोस्ती हुई थी। इसके बाद दोनों मिलने लगे। आठ जनवरी 2021 को रोहित उसे सवाई माधोपुर स्थित एक दोस्त के घर ले गया और नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। रोहित ने उसके आपत्तिजनक फोटो भी खींच लिए।
अगस्त में गर्भवती होने पर जब उसने रोहित को यह जानकारी दी तो वह नाराज हो गया और उससे मारपीट की। युवती के अनुसार, रोहित ने इसके बाद उसका गर्भपात भी करवा दिया।