Breaking News

जेट एयरवेज के कर्मचारी ने की आत्महत्या, पुलिस ने कहा – बीमारी की वजह से दी जान

Posted on: 27 Apr 2019 21:29 by bharat prajapat
जेट एयरवेज के कर्मचारी ने की आत्महत्या, पुलिस ने कहा – बीमारी की वजह से दी जान

जेट एयरवेज के एक वरिष्ठ टेक्निशियन ने तनाव के चलते आत्महत्या कर ली है। घटना की जानकारी देते हुए पुलिस ने शनिवार को बताया कि महाराष्ट्र में रहने वाले 45 वर्षीय शैलेश सिंह ने शुक्रवार की शाम में नालासोपारा ईस्ट में अपनी 4 मंजिला इमारत से छलांग लगा दी जिससे उनकी मौत हो गई।

वहीं इस मामले में जेट एयरवेज स्टाफ एंड इंप्लाइज एसोसिएशन का कहना है कि शैलेश सिंह ‘आर्थिक दिक्कतों’ का सामना कर रहे थे। क्योंकि परिचालन बंद होने से जेट एयरवेज ने कई महीनों से अपने कर्मचारियों को तनख्वाह नहीं दी थी। वहीं पुलिस अधिकारी ने कहा कि ‘वह कैंसर से पीड़ित है और उनकी कीमोथेरेपी चल रही थी। प्राथमिक तौर पर ऐसा प्रतीत होता है कि बीमारी की वजह से वह अवसाद में थे।’

इस मामले में एसोसिएशन का दावा है कि एयरलाइन द्वारा परिचालन बंद करने के बाद कर्मचारी की हत्या का यह पहला मामला है। बता दें कि शैलेश सिंह के परिवार में दो बेटे और दो बेटियां हैं। बताया जा रहा है कि शैलेश सिंह का बेटा भी जेट एयरवेज कंपनी में ऑपरेशन डिपार्टमेंट में काम करता था। पुलिस ने दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

बता दे कि जेट एयरवेज कंपनी बीते कई माह से कर्ज के संकट से जूझ रही है। जिसके चलते कंपनी के कर्मचारियों ने शनिवार शाम दिल्ली के जंतर मंतर पर कैंडल मार्च भी निकाला था। वही कर्मचारियों ने सरकार से भी कंपनी को बचाने की अपील की थी। इस दौरान प्रदर्शन में कंपनी के 200 से अधिक कर्मचारी परिवार सहित सम्मिलित हुए थे और सभी ने बाजुओं पर जेट एयरवेज को बचाने की अपील वाली पट्टी भी बांध रखी थी। इस मामले में एक पायलट ने कहा था कि जहां एक तरफ सरकार कौशल भारत की बात करती है वहीं दूसरी तरफ 22000 कुशल कर्मचारी बेरोजगार होने की स्थिति में है।

इस मामले में एयरलाइन के सीओ विनोद दुबे ने कर्मचारियों को वेतन के संबंध में पत्र भी लिखा था उन्होंने कहा था कि हम लगातार कर्मचारियों की स्थिति को लेकर बैंकों बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि अगर यह स्थिति बनी रही तो कर्मचारियों के सामने दूसरी नौकरी ढूंढने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं रहेगा।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com