इंदौर। बच्चो को पोलियों से बचाने के लिए लगने वाले दो डोज की जगह अब नये साल से तीन डोज लगाये जाएंगे, ताकि उन्हें पोलियों से अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान की जा सके। यह टीकाकरण नये साल से प्रारंभ किया जायेगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस. सैत्या ने बताया कि अब तक बच्चों को पोलियो से सुरक्षा प्रदान करने के लिए फेक्शनल इनएक्टीवेटेड पोलियो वायरस के दो डोज दिये जाते थे। पहला डोज छः सप्ताह की उम्र में एवं दूसरा डोज 14 सप्ताह की उम्र में दिया जाता था। अब इंडियन एक्सपर्ट एडवाईजरी ग्रुप ने बच्चों को पोलियो से अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए फेक्शनल इनएक्टीवेटेड पोलियो वायरस के तीसरे डोज की अनुशंसा की है।

Also Read : आवासीय स्वंय उपयोग के संपतिकर का भुगतान 31 मार्च 2023 तक करने पर मिलेगी 50 प्रतिशत की छूट

ऐसे में अब पूरे भारत में पोलियो से बच्चों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए तीसरा डोज लगाया जायेगा। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत शासन द्वारा इनएक्टीवेटेड पोलियो वायरस वैक्सिन का अतिरिक्त डोज 9 से 12 माह पर दिये जाने के निर्देश दिये गये हैं। शासन के निर्देशानुसार 1 जनवरी 2023 से 9 माह से 12 माह के बच्चों को एम.आर. टीके के प्रथम टीके के साथ-साथ फ्रेक्शनल इनएक्टीवेटेड पोलियो वायरस का अतिरिक्त डोज दिया जायेगा।