Indore Airport : दिवाली पर इंदौर एयरपोर्ट को मिलेगा ये खास तोहफा, पूरी हुई तैयारियां

Indore News : इंदौर एयरपोर्ट यानी देवी अहिल्याबाई होलकर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को इस साल दिवाली के खास मौके पर एक तोहफा मिलने जा रहा है।

Indore airport

Indore News : इंदौर एयरपोर्ट यानी देवी अहिल्याबाई होलकर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को इस साल दिवाली के खास मौके पर एक तोहफा मिलने जा रहा है। बताया जा रहा है कि एयरपोर्ट के लिए 15 विमानों की पार्किंग का जल्द ही उद्घाटन किया जाएगा। ऐसा होने से पार्किंग में एक साथ 26 विमान खड़े हो सकेंगे। बता दे, अहमदाबाद और मुंबई जैसे बड़े एयरपोर्ट की पार्किंग भरने के बाद इंदौर नया सेंटर बनकर उभरेगा। खास बात ये है कि ये 65 करोड़ की लागत वाले इस काम को प्रबंधन ने 50 करोड़ में पूरा कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक, कोरोना काल के पहले ही इसका निर्माण शुरू हो चुका था लेकिन ये पूरा नहीं हो पाया। जिसकी वजह से अब इसका जल्द ही उद्घाटन किया जाएगा। क्योंकि अब ये काम लगभग पूरा हो चुका है। जानकारी मिली है कि इसका उद्घाटन केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कर सकते हैं।

इसको लेकर प्रभारी एयरपोर्ट डायरेक्टर प्रबोध शर्मा ने बताया कि 15 विमानों की पार्किंग में 10 विमान एयरबस होंगे। वहीं पांच एटीआर। 11 पार्किंग पहले से मौजूद हैं। ऐसे में एक समय में 26 विमान खड़े हो सकेंगे, जो मध्य भारत में सबसे अधिक हैं। इंदौर में शेड्यूल उड़ानों के अलावा महू के लिए सेना के विमान और पीथमपुर की फार्मा कंपनियों के विशेष विमानों की भी आवाजाही बनी रहती है।

ये होगा फायदा 

जानकारी के मुताबिक, एविएशन एक्सपर्ट ने बताया है कि कोरोना काल खत्म होने के बाद एविएशन इंडस्ट्री फिर से गति पकड़ रही है। दो-तीन विमानों का संचालन करने वाली कई छोटी एयरलाइंस को बेस बनाने के लिए एयरपोर्ट की जरूरत होती है। स्टार एयर ऐसा कर चुकी है। अब दूसरी उड़ान कंपनियां भी इंदौर आ सकती हैं। अभी इंदौर में पांच विमान रात में खड़े होते हैं। इसके बाद कम से कम 20 विमान रात में रुक सकेंगे। इससे इंदौर से अलसुबह की ज्यादा उड़ानें मिल सकेंगी। बिजनेस क्लास के यात्रियों के लिए अलसुबह की उड़ान आदर्श मानी जाती है।

टैक्सी वे का काम भी होगा पूरा

आगे एयरपोर्ट प्रबंधन ने बताया कि यहां समानांतर टैक्सी-वे बनाने का काम भी चल रहा है, जिससे रनवे लैंडिंग के तत्काल बाद फ्री हो जाएगा। अभी किसी विमान के लैंड करने पर विमान रनवे के अंतिम छोर पर जाता है और वहां से यूटर्न लेकर एप्रिन में आता है। इससे हर बार रनवे कम से कम पांच मिनट के लिए ब्लाक हो जाता है। इस कारण दूसरे विमान को इंतजार करना पड़ता है। अब यह समस्या खत्म हो जाएगी।