देश

IPL पर हो सकता है भारत-चीन विवाद का असर, वीवो की स्पॉन्सरशिप पर लटकी तलवार!

लद्दाख में एलएसी पर भारत-चीन के बीच लगातार विवाद बढ़ता जा रहा है। वहीं इस विवाद का असर आईपीएल पर भी हो सकता है। दरअसल आईपीएल का टाइटल स्पॉन्सर चाइनीस मोबाइल कंपनी वीवो है। वहीं इसको लेकर बीसीसीआई ने कहा कि यदि भारत सरकार देश में चीनी फोन की बिक्री पर प्रतिबंध लगाती है तो वह इसका पालन करेगा और स्पॉन्सर से वो टाइटल को हटा दिया जाएगा।

रेलवे ने दिया झटकाindian army alert on LAC

वहीं भारतीय रेलवे ने चीन को बड़ा झटका देते हुए चीनी कंपनी को दिया गया 471 करोड़ का ठेका रद्द कर दिया है। जो कि सिग्‍नलिंग व टेली कम्‍युनिकेशंस का काम था। बता दे कि भारतीय रेलवे के डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (DFCCIL) ने बीजिंग नेशनल रेलवे रसिर्च एंड डिजाइन इंस्‍टीट्यूट ऑफ सिग्‍नल एंड कम्‍युनिकेशंस ग्रुप कॉ. लि. से करार खत्‍म किया है। इससे पहले सरकार ने BSNL और MTNL को निर्देश दिया था कि वो चीनी उपकरणों का इस्तेमाल कम करें।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकल के लिए वोकल का नारा दिया था और भारतीय उपकरणों को ज्यादा से ज्यादा महत्त्व देने की बात कही थी। वहीं 17 जून को ही प्रधान मंत्री ने चीन को चेतावनी दी थी कि उसे उसकी धोकेबाज़ी की कीमत चुकानी होगी और चीन कोई संदेह या भ्रम मे न रहे।

वहीं गुरुवार को टेलीकॉम सेक्टर ने तमाम चीनी उपकरणों के टेंडर रद्द करने की बात कही थी और उसके बाद आज रेलवे ने चीनी कंपनी का 471 करोड़ रुपये का टेंडर रद्द किया। अब जो नया टेंडर आएगा वो ऐसी शर्तो के साथ आएगा जिसमे कोई भी चीनी कंपनी की हिस्सेदारी न ले सके।