राजस्थान

कोरोना के खिलाफ आयुर्वेद बनेगा रामबाण! राजस्थान में क्लिनिकल ट्रायल शुरु

 

 

जयपुर: कोरोना महामारी को लेकर पूरी दुनिया वैक्सीन बनाने की कोशिश में जुटी है। इसके साथ हु कोरोना पर रोज नई रिसर्च हो रही है लेकिन इसको लेकर अभी तक कोई ठोस बात सामने नहीं आई है। इन सबके बीच भारत में भी आयुर्वेद पद्धति से कोरोना का इलाज खोजा जा रहा है। राजस्थान में कोरोना के मरीजों पर आयुर्वेद की दवाओं का क्लिनिक ट्रायल शुरू हो गया है।

जयपुर के रामगंज में 12 हजार लोगों पर आयुर्वेद की एक इम्यूनिटी की दवा की टेस्टिंग भी शुरू की गई है। केंद्रीय आयुष मंत्रालय यह ट्रायल क्लिनिकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन टीम के साथ मिलकर करा रहा है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान ने कोरोना को लेकर चार दवाएं बनाई हैं, जिनमें से एक का नाम है आयुष 64। इसे लेकर आयुष मंत्रालय उत्साहित है।

आयुर्वेद संस्थान के निदेशक संजीव शर्मा का कहना है कि यह दवा सामान्य तौर पर पहले मलेरिया के लिए दी जाती थी, लेकिन इसमें कुछ बदलाव के साथ कोरोना के मरीजों को दी जा रही है। तीन से चार महीने में इसके रिजल्ट सामने आ जाएंगे। इसके शुरूआती नतीजे भी अच्छे दिख रहे है।

संजीव शर्मा ने बताया कि दवा के ट्रायल के साथ 12 हजार लोगों लेकर आयुर्वेदिक दवा संशमनी बूटी के इम्यूनिटी बूस्टर का ट्रायल भी शुरू किया गया है। रामगंज जैसे कंटेनमेंट एरिया के लोगों को इस दवा की दो-दो गोलियां सुबह-शाम खिलाई जा रही हैं। 45 दिन बाद परिणाम का अध्ययन किया जाएगा।

दरअसल, केंद्र सरकार की मंशा प्रदेश सरकार के साथ मिलकर सरकारी अस्पतालों में क्लीनिकल ट्रायल करने की थी, लेकिन गहलोत सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी है। ऐसे में दवा का ट्रायल फौजियों पर किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार राजस्थान सरकार की ओर से यह सवाल उठाया जा रहा है कि भारत सरकार इसका क्लिनिकल ट्रायल आखिर दिल्ली में क्यों नहीं कर रही है?

Related posts
देशराजस्थान

एमजीएम मेडिकल कॉलेज की लैब बनेगी आधुनिक, सांसद शंकर लालवानी ने सीएसआर फंड से दिलवाई मशीनें

इंदौर: कोरोना के खिलाफ जारी जंग में…
Read more
breaking newsदेशराजस्थान

बाबा रामदेव के खिलाफ दर्ज हुई एफआरआई, कोरोनिल ने बढ़ाई मुसीबत

नई दिल्ली। पतंजलि के कोरोना की दवा…
Read more
राजस्थान

राज्यसभा चुनाव: राजस्थान में भी होटल वाली राजनीति, विधायक टूटने का सता रहा डर

जयपुर: गुजरात के बाद अब राजस्थान में…
Read more
Whatsapp
Join Ghamasan

Whatsapp Group