अंतरिक्ष में लहराएगा भारत का परचम, इसरो बनाएगा खुद का स्पेस स्टेशन

0
12

भारत अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में एक और छलांग लगाने की तैयारी कर रहा है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के चेयरमैन डाॅ के सिवन ने बताया है कि भारत अब स्पेस स्टेशन विकसित करने जा रहा है। जिसके लिए इसरो इस योजना पर काम कर रहा है। यह गगनयान मिशन का अगला कदम होगा। सिवन का कहना है कि हमें मानव अंतरिक्ष मिशन की लॉन्चिंग के बाद गगनयान कार्यक्रम को लगातार बनाए रखना है इसलिए हमें खुद के स्पेस स्टेशन की आवश्यकता है।

इससे पहले सिवन ने दिसंबर 2021 तक भारत द्वारा तीन भारतीयों को अंतरिक्ष में भेजे जाने की बात कही थी। इसके लिए गवर्नमेंट प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया गया है। भारतीय वायु सेना 10 अंतरिक्ष यात्रियों को अगले 2 महीने में खोजेगी जिसमें से इसरो तीन अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेस में भेजेगा।

इसरो प्रमुख ने कहा कि अगर हमारे द्वारा गगनयान मिशन को निर्धारित समय में पूरा किया जाता है तो भारत दुनिया का चैथा ऐसा देश होगा जो अपने बल पर अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेस में भेज सकेगा। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साल ही गगनयान प्रोजेक्ट की घोषणा की थी।

क्या है स्पेस स्टेशन

स्पेस स्टेशन को ऑर्बिट स्टेशन भी कहा जाता है। इसे इंसानों के रहने के लिए सभी सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए विकसित बनाया जाता है। यानी यह अंतरिक्ष में मानव निर्मित एक ऐसा स्टेशन है, जिससे पृथ्वी पर कोई भी अंतरिक्ष यान जाकर मिल सकता है।

इस स्पेस स्टेशन में इतनी क्षमता होती है कि इस पर अंतरिक्ष यान तक उतारा जा सकता है। इसे पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया जाता है। स्पेस स्टेशन एक ऐसा मंच है जहां से पृथ्वी का विश्लेषण किया जा सकता है और आकाश के रहस्य को मालूम का पता लगाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here