राज्यपाल ने अलीराजपुर में Sickle Cell Anemia जांच एवं Screening Camp का किया शुभारंभ, कही ये बड़ी बाते

सिकलसेल(Sickle Cell Anemia) बीमारी से बचाव, उपचार एवं जागरूकता हेतु सभी को सामूहिक प्रयास करने होंगे

Governor Shri Mangu Bhai Patel
Governor Shri Mangu Bhai Patel

सिकलसेल(Sickle Cell Anemia) बीमारी से बचाव, उपचार एवं जागरूकता हेतु सभी को सामूहिक प्रयास करने होंगे। हम सभी को संकल्पित होकर सिकलसेल के प्रति जागरूकता प्रयासों को विशेष बल देकर इसके लिए कार्य करना होगा। यह बात प्रदेश के राज्यपाल श्री मंगु भाई पटेल ने अपने उदबोधन में कही।

राज्यपाल श्री मंगु भाई पटेल(Governor Shri Mangu Bhai Patel) गुरूवार को अलीराजपुर जिले के प्रवास पर थे। उन्होंने जिला चिकित्सालय अलीराजपुर में सिकलसेल एनीमिया(Sickle Cell Anemia) स्वास्थ्य जांच एवं उपचार शिविर के अवसर पर यह बात कही।


राज्यपाल श्री पटेल ने आह्वान करते हुए कहा कि सिकलसेल से बचाव, इलाज और जागरूकता के प्रयासों से ही इसे बढने से रोका जा सकता है। उन्होंने सिकलसेल के प्रसार को रोकने हेतु किये जाने वाले प्रयासों पर अपने विचार रखे। उन्होंने सिकलसेल के कारकों और कारणों पर प्रकाश डालते हुए सभी से आह्वान किया कि सिकलसेल की पहचान होने पर पीडित शरमाए या घबराए नहीं बल्कि उसका इलाज कराए। केंद्र और राज्य सरकार ने अलीराजपुर और झाबुआ जिले में सिकलसेल एनीमिया के उपचार हेतु विशेष अभियान प्रारंभ किया है।

must read: भारत को आर्थिक महाशक्ति और 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनामी बना सकता हैं इंदौर पीथमपुर बेल्ट ! बस ये कर दीजिये

उन्होंने कहा कि सिकलसेल की जांच हेतु शिविरों का आयोजन किया जाए। सिकलसेल की पहचान हेतु जांच अवश्य रूप से कराए। जन्मपत्री के पूर्व सिकलसेल जांच कार्ड बनवाएं। विवाह के पूर्व सिकलसेल संबंधित जांच कराए। उन्होंने आह्वान किया कि योग को नियमित दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। जागरूकता प्रयासों हेतु मिलकर प्रयास किए जाए। उन्होंने सिकलसेल से बचाव एवं उपचार हेतु सबका विश्वास, सबका प्रयास का संदेश दिया। उन्होंने सिकलसेल से बचाव के पुनीत और सेवा कार्य हेतु सभी से आगे बढ़कर जागरूकता प्रयासों हेतु आह्वान किया। उन्होंने मध्यप्रदेश को सिकलसेल मुक्त प्रदेश बनाने के प्रयासों को बल देने की बात कही।

राज्यपाल श्री मंगु भाई पटेल को फारेस्ट रेस्ट हाउस अलीराजपुर में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। तत्पश्चात जनप्रतिनिधियों द्वारा प्रतीक चिन्ह भेंट कर उनका स्वागत किया गया। इसके पश्चात राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने जिला चिकित्सालय में सिकलसेल एनीमिया उपचार के इंटीग्रेटेड ट्रीटमेंट सेंन्टर का अवलोकन किया। यहां भर्ती बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी लेते हुए बच्चों का दुलार किया तथा चिकित्सकों से बच्चों के उपचार संबंधी जानकारी ली।

तत्पश्चात राज्यपाल श्री पटेल ने सहयोग गार्डन अलीराजपुर में सिकलसेल एनीमिया जांच एवं स्क्रीनिंग कैम्प का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस अवसर पर सिकलसेल एनीमिया से बचाव एवं उपचार संबंधित पुस्तक का विमोचन किया गया। कार्यक्रम में जन अभियान परिषद के वालेंटियर्स द्वारा सिकलसेल एनीमिया जागरूकता पर आधारित नुक्कड नाटक की प्रस्तुति दी गई।

राज्यपाल श्री मंगु भाई पटेल ने सिकलसेल अनीमिया प्रभावित बच्चों को जेनेटीक काउंसलिंग कार्ड का वितरण किया। कार्यक्रम में सिकलसेल से बचाव एवं उपचार हेतु जागरूकता वीडियो सन्देश प्रसारित किया गया। राज्यपाल श्री पटेल ने सिकलसेल एनीमिया स्वास्थ्य जाँच शिविर में स्वास्थ्य जांच प्रक्रिया का अवलोकन किया तथा स्वास्थ्य, आयुष विभाग एवं जन अभियान परिषद द्वारा लगाए गए प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इसके बाद राज्यपाल ने ट्राइबल टूरिज्म एवं महिला सशक्तिकरण पर आधारित चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

उन्होंने सांईराम टेक्नो मैनेजमेंट द्वारा संचालित सिकलसेल निःशुल्क जांच वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। राज्यपाल के स्वागत एवं कार्यक्रम के दौरान सांसद श्री गुमानसिंह डामोर, विधायकगण, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती अनिता चौहान एवं अन्य जनप्रतिनिधि तथा संभागायुक्त डॉ पवन कुमार शर्मा, डीआईजी श्री चन्द्रशेखर सोलंकी सहित पुलिस, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीगण उपस्थित थे। राज्यपाल को जिले की पहचान और प्रतीक चिन्ह स्वरूप तीर कमान एवं पिथोरा पेंटिंग भेंट की गई। प्रारंभ में स्वागत स्वरूप राज्यपाल को कलेक्टर श्री राघवेन्द्र सिंह एवं पुलिस अधीक्षक श्री मनोज कुमार सिंह ने पौधा भेंट किया।