अग्निवीर योद्धा के लिए भारत सरकार ने बड़ी ख़ुशख़बरी दे दी है। उनकी अनफ्रॉम के लिए भत्ते की राशि निर्धारित कर दी गई है। कर्मचारियों को हर साल प्रक्रिया से राशि का निर्धारण किया जाएगा। इस भत्ते के रूप में कर्मचारियों को प्रतिवर्ष 10 हजार रूपए का लाभ दिया जाएगा।

मंत्रालय का आदेश 

रक्षा मंत्रालय के आदेश के अनुसार डीएमए/जेएस(एन एंड डीएस)/2021/अग्निपथ-01 दिनांक 15.06.2022 और अग्निपथ योजना, 2022 को लागू करने के सरकार के निर्णय के अनुसार एक अग्निवीर के संबंध में पोशाक भत्ता की दर को अंतिम रूप दिया गया है, जो इस प्रकार होगा

अग्निवीर द्वारा 01 नवंबर 2022 को प्रशिक्षण में शामिल हुए कर्मचारियों को सरकार द्वारा ड्रेस प्रदान की जाएगी। उनकी पूरी प्रशिक्षण होने पर 01 मई 2023 को इकाइयों को रिपोर्ट किया जायेगा, वहीँ 23 मई और 23 जून के महीनों के लिए आनुपातिक भुगतान = रु (10000*2/12) = रु. 1667/- रूपए होगी।

जुलाई 2023 को भुगतान रु. 10,000 रूपए होगी।

जुलाई 2024 को भुगतान रु. 10,000 रूपए होगी।

जुलाई 2025 को भुगतान रु. 10,000 रूपए होगी।

जुलाई 2026 को भुगतान जुलाई, 2026 से अक्टूबर 2026 तक 4 माह के लिए आनुपातिक भुगतान = रु. (10000*4/12) = रु. 3333/-रूपए होगी।

यह भत्ता केवल अग्निवीर की मूल वर्दी को कवर करता है। सियाचिन ग्लेशियर पर या पनडुब्बी के अंदर उपलब्ध कराए गए किसी भी विशेष कपड़े के जाइक को अतिरिक्त रूप से प्रदान किया जाएगा।

प्रशिक्षण अवधि के दौरान अग्निवीरों को सरकारी लागत पर ड्रेस जारी की जाएगी।

इस दर से होगी उसूली

स्वयं की सहमति से विद्यमान अग्निवीरों/त्यागियों के मामले में पोशाक भत्ता निम्नलिखित दर से वसूल किया जाएगा।

जुलाई से सितंबर माह में अपनी मर्जी से बाहर जाने वाले – रु. 5000

अक्टूबर से दिसंबर के महीने में अपनी मर्जी से बाहर जाने वाले – रु. 2500

जनवरी से जून के महीने में अपनी मर्जी से बाहर जाने वाले – शून्य

इन कारणों से पोशाक भत्ते की वसूली नहीं

अग्निवीर की मृत्यु/उसके नियंत्रण से परे कारणों से अशक्तता के मामले में पोशाक भत्ते की कोई वसूली नहीं की जानी चाहिए।