देशभर में एक तरफ जहाँ बड़ी संख्या में युवा सरकारी नौकरी व रोजगार के लिए भटक रहे है तो वहीं दूसरी तरफ मध्य प्रदेश के राजधानी भोपाल समेत कई शहरों में सरकारी दफ्तरों में काम करने वाले कर्मचारी पिछले काई सालों से बिना किसी सूचना के गायब चल रहे है। दफ्तरों के इस लापरवाह रवैये को देखते हुए प्रदेश सरकार ने इन कर्मचारियों के खिलाफ नोटिस जारी कर बर्खास्त करने की तैयारी कर रही है।

भाजपा विधायक यशपाल सिंह ने प्रदेश सरकार से ऐसे कर्मचारियों की रिपोर्ट मांगी है जो बीतें काई सालों से बिना किसी सूचना के लापता है। साथ ही राजधानी भोपाल समेत इंदौर व उज्जैन के ऐसे कितने कर्मचारी है और इनके खिलाफ प्रदेश सरकार ने क्या कार्यवाही की गयी अथवा कितने कर्मचारियों को बर्खास्त किया गया है, इसकी भी रिपोर्ट जल्द पेश की जाए। इसके अलावा ऐसे कर्मचारियों से लापता होने की वजह भी मांगी जायेगी।

राजधानी भोपाल में ये कर्मचारी गायब

सामान्य प्रशासन विभाग ने सिसोदिया को बताया कि भोपाल के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थय अधिकारी पिछले कई दिनों से गायब चल रहे है। जिनमें मिमी जोसेफ 2018 से गायब चल रहे है जिन्हें कई पत्र भी लिखे गए लेकिन उनकी तरफ से कोई भी जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है। इनके अलावा नीलम वर्मा 2018 से, रेखा बोले 2014 से, वंदना झोले 2015 से तथा सीमा नय्यर समेत ऐसे कई कर्मचारी है जो बीतें कई सालों से गायब चल रहे। जुनके खिलाफ लगातर जांच जारी है लेकिन कोई जवाब नहीं मिले।

Also Read : देखते ही देखते पूरा बाजार समा गया गड्ढे में, वीडियो आया सामने

बता दें इसी प्रकार इंदौर समेत उज्जैन में भी कई ऐसे अधिकारी व कर्मचारी है जो कई सालों से बिना किसी सूचना के लापता है। तथा अभी तक उनसे किसी भी प्रकार का संपर्क भी स्थापित नहीं हो सका है।