दिल्ली चुनाव : रिकाॅर्ड तोड़ नामांकन में से 531 रद्द, अब बचे इतने उम्मीदवार

0

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों ने मैदान पकड़ लिया है। यहां आम आदमी पार्टी, भाजपा और कांग्रेस में मुख्य मुकाबला है। चुनाव के लिए नामांकन भरने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद स्क्रूटनी की जा रही है। नाम वापसी लेनी की अंतिम तारीख 24 जनवरी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली के इतिहास में पहली बार विधानसभा चुनाव के लिए रिकाॅर्ड तोड़ नामांकन जमा हुए थे।

दिल्ली के पहले विधानसभा चुनाव 1952 को छोड़ दिया जाए तो बीते 27 वर्ष में कभी भी इतने पर्चे दाखिल नहीं हुए। 70 विधानसभा सीटों पर 1015 उम्मीदवारों ने 1528 नामांकन पत्र जमा किए थे, जो अब तक के सबसे अधिक है। हालांकि स्क्रटूनी के दौरान 531 नामांकन एक झटके में रद्द किए गए हैं, जबकि मात्र उम्मीदवारों ने नाम वापस लिए हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अब तक 997 नामांकन पत्रों को स्वीकार किया गया है। हालांकि नाम वापसी की अंतिम तारीख 24 जनवरी है। ऐसे में नामांकन की संख्या और कम हो सकती है। दिल्ली मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रणबीर सिंह ने बताया कि 24 जनवरी को नामांकन पत्र वापस लेने का समय है। इसके बाद अंतिम सूची तैयार कर ली जाएगी।

8 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए 70 सीटों पर इस बार बीते 27 सालों में सबसे ज्यादा नामांकन पत्र दाखिल हुए हैं। नई दिल्ली क्षेत्र से सर्वाधिक 88 नामांकन पत्र दाखिल हुए थे, जिनमें 54 निरस्त कर दिए गए। इनके अलावा जिन उम्मीदवारों के नामांकन पत्र स्वीकार हो चुके हैं, उनमें डमी उम्मीदवारों में से भी कई के निरस्त हुए हैं।