महाराष्ट्र में दो शहर और एयरपोर्ट का बदला नाम, क्या संदेश देना चाहती है ठाकरे सरकार

उद्धव ठाकरे सरकार ने महाराष्ट्र में 2 शहरों के नाम बदलकर बड़ा फैसला लिया हैं। नाम बदलने के पीछे का क्या कारण है? इसके कई कयास लगाए जा रहे हैं।

महाराष्ट्र में जहा सियासी हलचल तेज हो गई तो वही एक बड़ी खबर सामने आईं हैं। एक ओर जहां उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट दोनों में टक्कर चल रही है। तो वहीं इस बीच उद्धव ठाकरे ने दो शहरों के साथ एयरपोर्ट का नाम बदलकर हिंदुत्व को एक बड़ा संदेश दिया है। बताया जा रहा है कि उद्धव ठाकरे ने दो जगह के नाम बदलकर बागियों को संदेश दिया है कि अभी वो हिंदुत्व के साथ है। जानकारी के अनुसार यह भी बात सामने आई है कि उद्धव ठाकरे कैबिनेट की बैठक में बहुत ही भावुक हो गए और इस बैठक में उन्होंने कहां कि मुझे अपनों ने ही धोखा दिया है। हालाकि अभी तक शिंदे गुट और ठाकरे सरकार के बीच बात उलझी हुई है। रोज नए- नए खुलासे हो रहे है। हालाकि महाराष्ट्र में 2 शहर और एक एयरपोर्ट का नाम बदलकर ठाकरे सरकार क्या संदेश दे रही, इसके कहीं कयास लगाए जा है।

Must Read- टेलर के हत्यारों पर गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत केस दर्ज
महाराष्ट्र के दो शहरों के साथ एक एयरपोर्ट का भी नाम बदला गया है उद्धव ठाकरे सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए नाम बदलने की सियासत जारी रखें जिसके चलते उद्योग कैबिनेट ने आज शाम दो शहरों और एक एयरपोर्ट के नाम को बदलने की मंजूरी दे दी। जिसके बाद अब औरंगाबाद को संभाजीनगर के नाम से जाना जाएगा और उस्मानाबाद शहर को ‘धारशिव’ के नाम से जाना जाएगा। वही दुसरी और दो शहरों के के अलावा एक एयरपोर्ट का भी नाम बदला गया है। नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को दिवंगत नेता बी.ए. पाटिल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के नाम से जाना जाएगा।