बिहार से चोरी की एक ऐसी घटना सामने आयी है जिसने सबको हैरान करके रख दिया। चोरों ने सुरंग खोदकर बरौनी के गरहरा यार्ड से रेल के एक पूरे इंजन को ही गायब कर दिया है। इससे पहले चोरों ने रोहतास में लोहे का पांच सौ टन वजनी पुल को ही गायब कर दिया था। वहीं पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। साथ ही चोरी में कई अन्य लोगों के भी शामिल होने की आशंका जताई जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चोरों के गिरोह ने बेगूसराय जिले के बरौनी स्थित गरहारा रेलवे यार्ड में मरम्मत के लिए लाए गए एक डीजल इंजन को ही साफ कर दिया। चोरों ने यह काम एक बार में थोड़े-थोड़े पुर्जे चुराकर पूरा किया। पुलिस ने बताया कि चोरों ने रेलवे यार्ड तक एक सुरंग भी खोद ली थी। चोर सुरंग के जरिए रेलवे यार्ड आकर इंजन के पुर्जों को चुराते और उन्हें बोरों में भरकर ले जाते थे।

चोर बोरी में भर ले गए इंजन

पुलिस ने मामले में तीन लोगों को हिरासत में लिया है। उनकी निशानदेही पर मुजफ्फरनगर जिले की प्रभात कॉलोनी में कबाड़ के एक गोदाम में छापेमारी की गई। पुलिस को गोदाम से चोरी हुए रेलवे इंजनों के पुर्जों के लगभग 113 बोरे मिले।

पुल के पुर्जे भी किये चोरी

इसके अलावा चोरों के एक अन्य गिरोह ने अररिया जिले में सीताधार नदी पर बने लोहे के पुल को भी खोलना शुरू कर दिया है। पलटनिया पुल से लोहे के कई एंगल और अन्य पार्ट्स गायब मिले हैं। पुलिस ने मामले में केस दर्ज कर पुल की सुरक्षा के लिए एक कॉन्स्टेबल को तैनात किया है। यह पुल अररिया जिले के दो शहरों फारबिसगंज और रानीगंज को जोड़ता है।

Also Read : कर्मचारियों के लिए एक और गुड न्यूज, सैलरी में होगी बढ़ोतरी

500 टन के स्टील पुल को भी चुरा ले गए चोर

आपको बता दें इस साल अप्रैल में भी चोरी का ऐसा ही एक मामला सामने आया था। तब चोरों ने करीब 45 साल पुराने और 500 टन वजनी स्टील के पुल को चोरी करके उसके हिस्सों को बेच दिया था। ये चोर दिन में पुल को खोलते थे जिससे उन पर किसी को शक न हो। पुलिस ने मामले में जल संसाधन विभाग के एक सहायक अभियंता समेत आठ लोगों को गिरफ्तार किया था। उनकी निशानदेही पर कबाड़ बरामद किया गया था।