आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं स्व सहायता समूह के लिए बड़ी खबर, जल्दी ही मिलेगी पेंशन की सुविधा

इस योजना के तहत 18 साल की उम्र से करीब 2 रुपए रोज और 40 साल की उम्र होने पर हर महीने ₹200 की बचत की राशि जमा करना होगी। 60 साल के बाद ₹3000 महीना पेंशन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका सहित स्व सहायता समूह की महिलाओं को दी जाएगी।

Shoulder shot of man opening received pension money from envelope - concept of retirement pension payments and savings

पेंशन योजना के तहत अब आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका एवं स्व सहायता समूह की महिलाओं को भी अब पेंशन का लाभ दिया जाएगा। इसके लिए महिलाओं को हर दिन 2 रुपए की बचत करना होगी, क्योंकि महिला एवं बाल विकास विभाग में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका को प्रोत्साहित करने की बात कही है। इसका जिम्मा भी अधिकारियों को दिया गया है।

महिला कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं को पेंशन योजना से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। इसके तहत 40 साल से अधिक उम्र के कार्यकर्ताओं एवं स्व सहायता समूह की महिलाओं और सहायिकाओं को हर महीने करीब ₹200 की बचत करना जरूरी होगा। हालांकि प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना में यह राशि जमा कराई जाएगी और वृद्ध होने पर उन्हें पेंशन की राशि दी जाएगी। इस दौरान 15 अगस्त तक इस काम को पूरा करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

दरअसल इस योजना के तहत 18 साल की उम्र से करीब 2 रुपए रोज और 40 साल की उम्र होने पर हर महीने ₹200 की बचत की राशि जमा करना होगी। 60 साल के बाद ₹3000 महीना पेंशन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका सहित स्व सहायता समूह की महिलाओं को दी जाएगी। जो भी इस योजना से जुड़ने की इच्छा रखते है उन्हें नामांकन कराना जरूरी होगा। जिसमें पंजीयन के समय आधार कार्ड, बचत और जन धन बैंक की पासबुक, मोबाइल नंबर आदि के साथ बैंक से हर महीने काटने वाली राशि के लिए भी सहमति पत्र भी देना होगा। इसके बाद ही आंगनबाड़ी से जुड़े कार्यकर्ता, स्व सहायता, सहायिका इस योजना से जुड़ सकती हैं।

Must Read- पॉलिटेक्निक महाविद्यालयों में निकली प्राचार्य पद की भर्ती, 25 अगस्त है आवेदन की अंतिम तिथि

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में अभी कुल 97135 आंगनबाड़ी केंद्र है। जिमसें करीब 340950 स्व सहायता समूह में 39 लाख 8 हजार महिला सदस्य भी शामिल है। इन सभी को पेंशन योजना से जोड़ने के लिए महिला बाल विकास विभाग लगातार कार्य कर रहा है। इसके लिए वीडियो कांफ्रेंस कर चर्चा की और मौजूद अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई।