सांसद अर्जुन सिंह ने BJP छोड़कर थामा TMC दामन, घर वापसी पर हुआ स्वागत

भाजपा में रहते हुए मुझे बहुत ही समस्याएं आई और क्योंकि बहुत से लोग बंगाल के विकास को रोकने की कोशिश में लगे रहे। लेकिन अब मैं फिर से अपने घर में आ गया हूं|

BJP, TMC, भारतीय जनता पार्टी , तृणमूल कांग्रेस, MP Political News,

भाजपा के लोकसभा सांसद अर्जुन सिंह ने रविवार को टीएमसी में का दामन थाम लिया है। तृणमूल कांग्रेस में जाने के बाद अर्जुन सिंह ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट को भी अपडेट कर लिया। इस दौरान अर्जुन सिहं के साथ तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी साथ रहे और पार्टी की सदस्यता दिलवाई गई। भाजपा के लोकसभा सांसद अर्जुन सिंह रविवार को तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए है। कोलकाता में पार्टी महासचिव अभिषेक बनर्जी की मौजूदगी में अर्जुन सिंह TMC में शामिल हुए।

Must Read- Indian Railways: 31 मई को नहीं चलेगी ट्रेनें, जाने क्या है वजह

अर्जुन सिंह के TMC में शामिल होने के बाद  टीएमसी की ओर से एक ट्वीट किया गया, “बंगाल भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष और बैरकपुर से सांसद अर्जुन सिंह का अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस परिवार में हार्दिक स्वागत है”। बताया जा रहा है कि टीएमसी में शामिल होने के बाद अब सोमवार को अर्जुन सिंह ममता बनर्जी से मिलेंगें”।

BJP, TMC, भारतीय जनता पार्टी , तृणमूल कांग्रेस, MP Political News,

पत्रकारों से चर्चा करते हुए अर्जुन सिंह ने कहा कि  मैं पुनः TMC में वापस आ गया हूं, पश्चिम बंगाल में बहुत सी जुट मिले बंद हो गई है और में इसके लिए लड़ भी रहा था। मैंने कई बार बीजेपी के मंत्रियों को भी इस विषय में अवगत करवाया। लेकिन समस्या का समाधान नही किया गया। इस समस्या को लेकर सीएम ममता बनर्जी ने भी प्रधानमंत्री मंत्री को भी चिट्ठी लिखी है। जिसके बाद मैं भी इस बात पर अड़ गया और ममता की बात पर लड़ने लगा।

Must Read- गोवंश से भरे ट्रक में दरिंदों ने लगाई आग, गाय बछड़ों की जिंदा जलकर हुई मौत

पत्रकारों से चर्चा के दौरान अर्जुन सिंह ने आगे कहा कि अब ममता बनर्जी को इस लड़ाई को आगे बढ़ाना होगा, नहीं तो फिर बंगाल की हार  होगी। भाजपा में रहते हुए मुझे बहुत ही समस्याएं आई और क्योंकि बहुत से लोग बंगाल के विकास को रोकने की कोशिश में लगे रहे। लेकिन अब मैं फिर से अपने घर में आ गया हूं, यही कारण है कि अब मैं बंगाल के लिए काम करूंगा। क्योंकि एसी कमरों में बैठकर राजनीति करना संभव नहीं है, राजनीति करने के लिए जमीन पर उतरना पड़ता है।