अग्रवाल समाज केन्द्रीय समिति, इंदौर ने अपने पूर्व अध्यक्ष एवं दो बार पार्षद रहे श्री अरविंद बागड़ी को शहर कांग्रेस अध्यक्ष पद पर पहले नियुक्त करने और कुछ ही घंटे बाद उनकी नियुक्ति को होल्ड पर रख देने के निर्णय पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया है। अरविंद
बागड़ी के साथ हुए व्यवहार से अग्रवाल समाज की भावनाओं को आघात करने और अपने लिए निर्णय पर पुनर्विचार करने की मांग को लेकर पत्रकार वार्ता आयोजित की

शहर के 120 अग्रवाल संगठनों की प्रतिनिधि संस्था अग्रवाल समाज केन्द्रीय समिति के अध्यक्ष राजेश बंसल ने बताया कि समिति ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से अपने इस निर्णय पर पुनर्विचार करे और शहर कांग्रेस की बागडोर अरविंद बागड़ी को सौंपे ।

समिति के महामंत्री पवन सिंघल, पूर्व अध्यक्ष कुलभूषण मित्तल कुक्की, संजय बांकड़ा, किशोर गोयल, सहित विभिन्न अग्रवाल संगठनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि बागड़ी पिछले तीन दशकों से सार्वजनिक क्षेत्र में समर्पित और निस्वार्थ भाव से काम करने वाले ऐसे कांग्रेस कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने युवक कांग्रेस और ब्लाक कांग्रेस से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत कर मतदाता पर्चियां बांटने से लगाकर प्रत्येक चुनाव में कांग्रेस के समर्थन में तन, मन, धन से काम किया है। ऐसे कार्यकर्ता को पहले पद देकर, कुछ ही घंटों में उनकी नियुक्ति को होल्ड पर रखने से शहर के कांग्रेस समर्थित समाजबंधु स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। यह अग्रवाल समाज के समर्पित सेवाभावी के साथ ही समूचे समाज के लिए भी अपमानजनक स्थिति है। यह बागड़ी का नहीं, कांग्रेस के हर उस कार्यकर्ता के लिए भी अपमानजनक है, जिसने अपने खून-पसीने से पार्टी को सींचा है।

समिति के पदाधिकारियों ने आगे कहा कि इस पूरे घटनाक्रम को सार्वजनिक क्षेत्र में काम करने वाले समर्पित और निस्वार्थ कार्यकर्ताओं के लिए अपमानजनक बताते हुए स्पष्ट किया कि समाज किसी भी दल के समर्थन या विरोध की बात नहीं करते हुए इस मामले में अरविंद बागड़ी के साथ हुए व्यवहार पर अपनी नाराजगी व्यक्त कर रहा है। अरविंद बागड़ी की जगह यदि किसी और दल के समाज बंधु के साथ इस तरह का बेहूदा मजाक होता तो समिति के पदाधिकारी उसका भी विरोध करते। यहां बात कांग्रेस या भाजपा की नहीं, बल्कि समाज के एक सेवाभावी बंधु के साथ उनकी पार्टी द्वारा किए गए व्यवहार और उससे उत्पन्न हालातों की करें तो निश्चित ही यह बड़े से बड़े और छोटे से छोटे कार्यकर्ता की भावनाओं को गंभीर आघात पहुंचाने वाला मुद्दा बन गया है। जहां तक बागड़ी के भाजपा नेताओं से रिश्ते के आरोप की बात है तो समाज के स्तर पर वे केन्द्रीय समिति के अध्यक्ष भी रहे हैं और पार्षद रहते हुए भी उन्होंने सर्वश्रेष्ठ पार्षद का खिताब भी हांसिल किया है। इसका मतलब यह नहीं कि उनके भाजपा नेताओं से रिश्ते हैं। व्यक्तिगत तौर पर हर कांग्रेस के नेता के भाजपा नेताओं से मधुर रिश्ते होते ही हैं। बागड़ी ने अपने इन रिश्तों से समाज को भी कई अवसरों पर लाभांवित किया है। वरिष्ठ नेता भी अक्सर राजनीति से ऊपर उठकर समाज सेवा की बात करते हैं फिर बागड़ी पर भाजपा प्रेम का कथित आरोप प्रासंगिक नहीं लगता।

 

समिति का कहना है कि अग्रवाल समाज ने हमेशा शहर और प्रदेश के साथ देश के विकास में भी हर संभव योगदान किया है। देश या प्रदेश में जहां कहीं प्राकृतिक आपदा अथवा अन्य किसी तरह की स्थिति बनने पर तन, मन, धन से अपना विनम्र योगदान किया है और हमें यह कहने में भी कोई संकोच नहीं हो रहा है कि श्री अरविंद बागड़ी ने अपने 30-35 वर्षों के सार्वजनिक जीवन में समाज, शहर एवं प्रदेश के लिए बहुत कुछ योगदान किया है। ऐसे सेवाभावी और समर्पित बंधु के साथ इस तरह का शर्मनाक आचरण किसी भी पार्टी के लिए शोभाजनक नहीं माना जा सकता। अग्रवाल समाज के उक्त सभी पदाधिकारियों ने प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी जयप्रकाश अग्रवाल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ एवं अन्य सभी जिम्मेदार पदाधिकारियों से पुरजोर अनुरोध किया है कि वे संगठन की शहर में वर्तमान स्थिति को देखते हुए श्री अरविंद बागड़ी को ससम्मान अपने शहर कांग्रेस अध्यक्ष पद पर नियुक्त करने के निर्णय को बहाल करें। यहां यह बताना भी जरूरी है कि अब तक जिले में 68 शहर एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष रहे हैं और उनमें से केवल एक स्व. श्री रामचंद्र अग्रवाल ही जिला अध्यक्ष पद पर रह चुके हैं। इनके अलावा अग्रवाल समाज को अब तक कांग्रेस ने कभी महत्व नहीं दिया। यह पहला मौका है जब अग्रवाल समाज के बंधु को यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। हमें विश्वास है कि कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व बागड़ी की नियुक्ति को होल्ड पर रखने के निर्णय पर जल्द से जल्द फैसला करेगा और समाज की भावनाओं का सम्मान करते हुए उन्हें फिर से अपने पद पर बहाल करेगा।

 

पत्रकार वार्ता में मनोज अग्रवाल, नितिन अग्रवाल, बालकिशन अग्रवाल मूसाखेड़ी, राजेश मित्तल, रवि अग्रवाल, अरविंद अग्रवाल, सहित विभिन्न संगठनों के अनेक प्रतिनिधि उपस्थित थे।