गोवा में कॉंग्रेस के 5 विधायक बीजेपी के समर्थन में, 3 और बदल सकते हैं पाला

गोवा के 11 में से 5 काँग्रेसी विधायक अपना पाला बदल कर बीजेपी का दामन थामने की तैयारी में हैं, इसके साथ ही तीन और विधायकों के भी बीजेपी में शामिल होने के आसार। सोनिया गांधी ने भेजा सांसद मुकुल वासनिक को स्थिति नियंत्रण के लिए।

पूरे देश की तरह ही गोवा (Goa) में भी काँग्रेस की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। जानकारी के अनुसार गोवा के 11 में से 5 काँग्रेसी विधायक अपना पाला बदल कर बीजेपी (BJP) का दामन थामने की तैयारी में हैं , इसके साथ ही तीन और विधायकों के भी बीजेपी में शामिल होने के लिए तैयार किए जाने की जानकारी सूत्रों के द्वारा मिल रही है। गोवा के पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में शिवसेना व कांग्रेस के गठबंधन की सरकार से बगावत करके बीजेपी के समर्थन से एकनाथ शिंदे सरकार बनने के बाद गोवा के विधायकों का काँग्रेस को छोडकर बीजेपी में जाना काँग्रेस पार्टी के लिए एक बड़ा झटका साबित हो सकता है। इसी तरह 3 साल पहले भी कांग्रेस के 10 विधायकों ने कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा था ।

Also Read-श्रीलंका में प्रदर्शनकारियों का राष्ट्रपति भवन और प्रधानमंत्री आवास पर कब्जा, हुई मॉक केबिनेट बैठक

सोनिया गांधी ने भेजा सांसद मुकुल वासनिक को स्थिति नियंत्रण के लिए

महाराष्ट्र के बाद गोवा में काँग्रेस की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए सोनिया गाँधी के द्वारा राजस्थान के रामटेक से काँग्रेस पार्टी के सांसद मुकुल वासनिक को परिस्थिति नियंत्रण के लिए भेजा है। बीजेपी के द्वारा कांग्रेस के विधायकों को अपने पाले में लेने की कोशिशों को विफल करने के लिए कॉंग्रेस पार्टी ने कमर कसी है ,परन्तु पार्टी की वर्तमान स्थिति को देखते हुए राजनैतिक ज्योतिषियों द्वारा कांग्रेस पार्टी की गोवा में मजबूती की सम्भवना बनने से इंकार किया जा रहा है।

Also Read-शेयर बाजार : बैंकिंग सेक्टर में निवेश दे सकता है बड़ा मुनाफा, विश्लेषकों की है राय

कांग्रेस के ये विधायक हुए हैं गोवा में बागी

गोवा में कांग्रेस के विधायक दिगंबर कामत, माइकल लोबो, राजेश फलदेसाई, केदार नाइक और दलीला लोबो द्वारा कांग्रेस पार्टी से बगावत की पुख्ता जानकारी सूत्रों के द्वारा प्राप्त हो रही है, इसके साथ ही 3 और कांग्रेसी विधायकों के निकट भविष्य में भारतीय जनता पार्टी के पाले में जाने की खबर भी प्राप्त हो रही है। दलबदल कानून से बचने के लिए बीजेपी के द्वारा अधिक संख्या में कांग्रेस विधायकों को अपने पक्ष में करने की तैयारी है।