केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एक कार्यक्रम के दौरान 15 साल पुरानी गाड़ियों में कबाड़ में तब्दील करने की बात कही है। इसके लिए उन्होंने बीते गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में फाइल पर हस्ताक्षर भी कर दिया है। इससे संबंधित सभी राज्यों को दिशा निर्देश भी जारी कर दिए हैं।

परली जलाने की समस्या 

गडकरी ने कहा कि पानीपत में इंडियन ऑयल के दो संयंत्र लगभग शुरू हो गए हैं, जिनमें से एक प्रतिदिन एक लाख लीटर एथनॉल का उत्पादन करेगा, जबकि दूसरा संयंत्र चावल के भूसे का उपयोग करके प्रतिदिन 150 टन बायो-बिटुमेन का निर्माण करेगा। उन्होंने कहा कि इन संयंत्रों से पराली जलाने की समस्या में कमी आएगी। इस मौके पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मुख्य अतिथि थे। उन्होंने गडकरी के प्रयासों की तारीफ की।

प्राइवेट पैसेंजर व्हीकल को फिटनेस टेस्ट

स्क्रैपिंग का मतलब ये है कि अगर किसी के पास 15 साल से ज्यादा पुरानी कार है तो उसका रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया जाएगा। उस गाड़ी को रोड पर नहीं चला सकते हैं. अगर कोई व्यक्ति ऐसा करता पकड़ा गया तो उस पर जुर्माना लगाया जा सकता है। 10 साल पुराने कमर्शियल व्हीकल और 15 साल पुराने प्राइवेट पैसेंजर व्हीकल को फिटनेस टेस्ट देना होगा। फिटनेस टेस्ट कराना मैंडेटरी है। अगर आपकी गाड़ी फिटनेस टेस्ट में फेल हो जाती है तो आपको देश भर में 60-70 रजिस्टर्ड स्क्रैप फैसिलिटी में अपनी गाड़ी जमा करवानी होगी।

मिलेंगे कई फायदे

अगर किसी व्यक्ति की गाड़ी फिट नहीं है और 15 साल पुरानी है तो उस व्यक्ति को पुरानी गाड़ी के बदले में एक डिपॉजिट सर्टिफिकेट दिया जाएगा. अगर आप नई गाड़ी खरीदने जाते हैं तो कई फायदे मिलेंगे। आपको पुरानी गाड़ी की स्क्रैप वैल्यू मिलेगी जो नई गाड़ी की शोरूम प्राइस के 5 प्रतिशत के बराबर होगी। साथ ही रजिस्ट्रेशन फीस देने की जरूरत नहीं होगी। वहीं राज्य सरकार कस्टमर को प्राइवेट व्हीकल के लिए 25% और कमर्शियल व्हीकल के लिए 15% तक रोड टैक्स छूट दे सकती है।