पिता-पुत्र के संबंधों में मधुरता के लिए 10 दिवसीय अनुष्ठान

0
41

इंदौर। 15 जनवरी को मकर संक्रांति पर्व पर सूर्य मकर रािश में प्रवेश करेगा। 24 जनवरी को 30 वर्ष बाद शनि भी मकर राशि में प्रवेश करेंगे। डिवाइन एस्ट्रो हीलर परिवार द्वारा समाज को मानव सेवा से जोड़ने की श्रृंखला में इस पर्व पर हम आपसी रिश्तों में मिठास लाने का एक प्रयत्न हम ग्रहों की सांकेतिक चाल के माध्यम से करेंगे। मकर संक्रांति पर्व परपिता सूर्य के सूचक गुड़ और पुत्र शनि देव के सूचक तिल को मिला कर मीठा-मीठा बोलने का आह्वान करते हैं। इसी तारतम्य में रिश्तों में भी मिठास लाने की मंशा से शनि नवग्रह मंदिर, त्रिवेणी, उज्जैन में 15 जनवरी को पिता सूर्य देव की सवारी पुत्र शनि देव के गर्भ में ले जाकर दस दिवसीय अनुष्ठान का प्रारंभ होगा।

सूर्य देव की सवारी गर्भ गृह से निकल सूर्य देव को अर्क दें। शनि गर्भ में सांकेतिक विराजित की जाएगी। 51 ब्राह्मण मंत्रों के साथ सवारी को विधि-विधान से अंतिम रूप दंेगे। नवग्रह मंदिर प्रांगण में बनाई जाने वाली नवग्रह वाटिका में नव ग्रहों के परिचायक पौधे रोपित करके इस अनुष्ठान का समापन 24 जनवरी को किया जाएगा। पिता-पुत्र के रिश्तों में मधुरता बढ़ाने के उद्देश्य से हो रहे इस अनुष्ठान में आप सादर आमंत्रित है। कलयुग के इस समय में त्योहारों के माध्यम से रिश्तों में मधुरता लाने के इस अनुष्ठान में अपनी उपस्थिति की आहुति अवश्य दें।
नोट: 15 जनवरी को हर पिता अपनी सुबह की चाय अपने पुत्र के कमरे में पी कर पर्व की शुरुआत करें।

कृष्णा मिश्रा
डिवाइन एस्ट्रो हीलर
9826070286
www.krishnaguruji.Com
www.divineastrohealing . com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here