साल का आखिरी शनि प्रदोष व्रत, इन उपायों से 2020 में बनेंगे मालामाल

0
86

हर महीने त्रयोदशी तिथि पर प्रदोष व्रत रखा जाता है। यह व्रत भगवान भोलेनाथ को समर्पित है। इस माह त्रयोदशी तिथि 9 नवंबर शनिवार को है। शनिवार को व्रत होने के कारण इसे शनि प्रदोष व्रत भी कहा जा रहा है। इस दिन भगवान भोलेनाथ के साथ ही शनिदेव की पूजा करना भी शुभ माना जाएगा। ज्योतिषियों के अनुसार इस साल का यह अंतिम शनि प्रदोष व्रत है।

ज्योतिषियों के मुताबिक अगले साल 2020 के पहले महीने में ही शनि मकर राशि में प्रवेश कर जाएंगे, जिससे वृश्चिक राशि के जातक साढ़े साती से मुक्त हो जाएंगे और कुंभ राशि के जातकों पर साढ़ेसाती का प्रभाव शुरू हो जाएगा। इस शनि प्रदोष व्रत में आप अगर शनि को प्रसन्न कर लेंगे तो आने वाले वर्ष में शनि आपके कष्टों को कम कर देंगे।
इन उपायों के सहारे प्रसन्न करें शनिदेव को

1- अगर आपके जीवन में नौकरी से संबंधित दिक्कतें आ रहीं हैं तो शनि प्रदोष व्रत के दिन नाव के कील की अंगूठी पहनें। इस दिन सुबह और शाम के समय में हनुमान चालीसा का पाठ करना भी शुभ रहता है।

2- शनि के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन शनि मंत्र का जाप करने से भी शनि का अशुभ प्रभाव कम होता है। ‘ओम प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः’

3- दांपत्य जीवन की परेशानियों को दूर करने के लिए इस दिन हनुमान जी के मंदिर जाएं और उन्हें सिंदूर चढ़ाएं। इस दिन सूंदर कांड का पाठ करने से भी सभी परेशनियां दूर हो जाती हैं और दांपत्य जीवन खुशहाल हो जाता है।

4- आपके व्यवसाय में कोई दिक्कतें आ रहीं है तो इस दिन भगवान शिव का अभिषेक करें। इस दिन शनि स्त्रोत के पाठ करने से भी परेशनियां कम होती है।

5- जो लोग शनि की साढ़े साती से पीड़ित है उन्हें इस दिन शनि महाराज को तेल चढ़ाना चाहिए। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार शनि को तेल चढ़ाने से ग्रह दोषों से मुक्ति मिलती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here