सरकार के सख्त रवैये से शेयर मार्केट में हाहाकार, डूब गए 2 लाख करोड़ रुपए

भारतीय शेयर बाजार में गुरूवार को सेंसेक्स और निफ्टी का हाल बुरा रहा है। दरअसल, बाजार में छाई चैतरफा बिकवाली के चलते शेयर बाजार अपने पिछले 6 माह के सबसे नीचले स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स करीब 587 अंकों से ज्यादा टूट गया और 36 हजार 472 के स्तर पर बंद हुआ।

0
75

नई दिल्ली : भारतीय शेयर बाजार में गुरूवार को सेंसेक्स और निफ्टी का हाल बुरा रहा है। दरअसल, बाजार में छाई चैतरफा बिकवाली के चलते शेयर बाजार अपने पिछले 6 माह के सबसे नीचले स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स करीब 587 अंकों से ज्यादा टूट गया और 36 हजार 472 के स्तर पर बंद हुआ। ये सेंसेक्स का 5 मार्च के बाद सबसे निचला स्तर है। वहीं निफ्टी भी करीब 186 अंक कमजोर होकर 10,732.65 के स्तर तक पर लुढ़क गया है।

ब्ताया जा रहा है कि शेयर बाजार का ये हाल ऑटो और एफएमसीजी सेक्टर में छाई मंदी के चलते है। दरअसल, इन सेक्टरों द्वारा सरकार से राहत पैकेज की मांग की जा रही है। लेकिन, सरकार की ओर से इसको लेकर कोई सकारातमक प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है। वहीं मुख्य आर्थिक सलाहकार के. सुब्रमण्यम ने प्राइवेट सेक्टर की कंपनियों को माइंडसेट बदलने की सलाह दे डाली है।

के. सुब्रमण्यम ने प्राइवेट सेक्टर की तुलना एक जवान हो चुके व्यक्ति से करते हुए कहा कि ‘‘इस 30 साल के व्यक्ति को अब अपने पैरों पर खड़ा होना चाहिए। यह बालिग व्यक्ति लगातार अपने पिता से मदद नहीं मांग सकता। आपको इस सोच को बदलना होगा। आप यह सोच नहीं रख सकते कि मुनाफा तो खुद लपक लूं और घाटा हो तो सब पर उसका बोझ डाल दूं।’’

ब्ता दे कि जुलाई में सरकार की ओर से पेश किए गए आम बजट में एफपीआई (विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों) पर सरचार्ज लगाया गया था। जिसको लेकर निवेशक अब तक सरकार से राहत की उम्मीद लगाए बैठे है। हालांकि बीते दिनों मीडिया में खबरें भी थी कि सरकार सरचार्ज हटाने पर विचार कर रही है। जिसका निवेशकों ने स्वागत भी किया था, साथ ही बाजार में रिकवरी भी देखी गई थी। लेकिन निवेशकों में एक बार फिर निराशा का माहौल बन रहा है।

इधर ग्लोबल बाजार में भी आर्थिक मंदी के चलते बिकवाली देखी जा रही है। साथ ही डॉलर के मुकाबले रुपये के कमजोर होने के कारण भी निवेशकों की चिंता बढ़ी है।

निवेशकों के डूबे 2 लाख करोड़ से अधिक

वहीं बुधवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,38,84,069.39 करोड़ रुपये था। लेकिन गुरुवार को सेंसेक्स में बड़ी गिरावट के कारण मार्केट कैप 2,20,836.62 करोड़ रुपये घटकर 1,36,66,251.05 करोड़ रुपये हो गया है। जिसके तहत गुरुवार को निवेशकों के 2 लाख करोड़ रुपये से अधिक डूब गए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here