बिहार में लालू के आवास पर मीटिंग शुरू, कांग्रेस विधायक का ऐलान- नीतीश होंगे महागठबंधन के सीएम

अगर सभी पार्टीयों में सहमती बनती हैं तो बीजेपी के साथ वाली नीतिश सरकार महागठबंधन करके नई सरकार बना लेगीं। उधर, जदयू, राजद और कांग्रेस ने अपने-अपने विधायकों की बैठक बुलाई है।

बिहार की राजनीति में आज घमाघमी का दौर रह सकता हैं। दरअसल, नीतीश कुमार के बीजेपी से नाता तोड़ने की चर्चाओं के बीच सभी पार्टियां एक्टिव मोड में आ गई हैं। अगर सभी पार्टीयों में सहमती बनती हैं तो बीजेपी के साथ वाली नीतिश सरकार महागठबंधन करके नई सरकार बना लेगीं। उधर, जदयू, राजद और कांग्रेस ने अपने-अपने विधायकों की बैठक बुलाई है। लेफ्ट पार्टियों ने भी अपने नेताओं की मीटिंग बुलाई है।

बिहार में चर्चा है कि नीतीश कुमार बीजेपी का साथ छोड़कर एक बार फिर महागठबंधन में शामिल हो सकते हैं। हालांकि नीतीश कुमार की नई सरकार में सीपीआई विधायक शामिल नहीं होंगी। कांग्रेस विधायक शकील अहमद ने दावा किया है कि नीतीश कुमार ही महागठबंधन के मुख्यमंत्री होंगे। उधर, कांग्रेस के सभी विधायक भी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर पहुंच गए हैं।

Also Read: उज्जैन : तिरंगा लेकर घोड़े पर सवार हुए कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक, जनता को दिया ये संदेश

जदयू विधायक कुमुद वर्मा और सांसद सुनील कुमार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवास पर पहुंच गए हैं। नीतीश कुमार ने 11 बजे पार्टी के सांसदों और विधायकों की बैठक बुलाई है। बिहार में सियासी उलटफेर की चर्चा के बीच जदयू के नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान आया है। उपेंद्र कुशवाहा ने दावा किया है कि बिहार में एनडीए गठबंधन में सब कुछ ठीक चल रहा है. अभी तक कोई दिक्कत नहीं है. हालांकि, उन्होंने कहा कि भविष्य में क्या होगा, यह कोई नहीं बता सकता। राजद नेता लालू यादव के पटना आवास पर राजद के विधायकों और सांसदों की बैठक शुरू हो गई है. हालांकि, बैठक में विधायकों से फोन बाहर रखने के लिए कहा गया है. सभी विधायकों के नाश्ते का इंतजाम भी यही किया गया है.

जदयू से एमएलसी और बिहार सरकार में मंत्री रहे नीरज कुमार ने बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि आरसीपी सिंह के जरिए नीतीश कुमार और जदयू की छवि बिगाड़ने की कोशिश की गई. उन्होंने कहा, नीतीश कुमार जो भी फैसला करेंगे, पार्टी उनके साथ है.