दिव्यांग बच्चे को फ्लाइट में चढ़ने से रोकना Indigo Airlines को पड़ा महंगा, एक्शन मोड में ज्योतिरादित्य सिंधिया

मामले पर नाराजगी जाहिर करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने कहा कि इस तरह का व्यवहार बर्दाश्त करने लायक नहीं है. ज्योतिरादित्य की इस बात के बाद एयरलाइन के CEO ने माफी मांगी है.

Indigo Airlines

दिल्ली। इंडिगो एयरलाइंस (Indigo Airlines) की ओर से हाल ही में दिव्यांग बच्चे को फ्लाइट में चढ़ने से मना करने का मामला सामने आया था. यह मामला अब केंद्र की नजरों में आ गया है. हाल ही में इस मामले पर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का रिएक्शन सामने आया है.

मामले पर नाराजगी जाहिर करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने कहा कि इस तरह का व्यवहार बर्दाश्त करने लायक नहीं है. ज्योतिरादित्य की इस बात के बाद एयरलाइन के CEO ने माफी मांगी है.

बता दें कि शनिवार को एक दिव्यांग लड़का अपने माता पिता के साथ रांची एयरपोर्ट पहुंचा था, जहां से उसे फ्लाइट के जरिए हैदराबाद जाना था. लेकिन उसे इंडिगो की फ्लाइट में चढ़ने से रोक दिया गया. जिसके बाद उसके मां-बाप ने यात्रा नहीं करने का फैसला लिया.

Must Read- 88 साल पहले खुले थे ताज महल के कमरे, अब खुलने पर नए राज आएंगे सामने!

मामला सामने आने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने ट्वीट करते हुए कहा कि इस तरह का रवैया बिल्कुल भी बर्दाश्त के लायक नहीं है. किसी भी इंसान को इस समय से ना गुजरना पड़े. मैं खुद इस मामले की जांच कर रहा हूं, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. मामले को लेकर नागर विमानन महानिदेशालय की ओर से भी इंडिगो कंपनी की ओर से रिपोर्ट मांगी गई है.

 

पूरे मामले को लेकर इंडिगो एयरलाइंस का कहना है कि 7 मई को जो घटना हुई वह दुर्भाग्यपूर्ण है. एक दिव्यांग लड़के और उसके माता-पिता यात्रा नहीं कर पाए, जिसके चलते इंडिगो के सभी कर्मचारी परेशान है. कंपनी ने आगे बताया कि अप्रैल 2022 से अब तक लगभग 75,000 दिव्यांगजन फ्लाइट के जरिए यात्रा कर चुके हैं. हम क्रू को इस बात के लिए खास ट्रेनिंग भी देते हैं. कंपनी ने कहा कि सेफ्टी गाइडलाइंस को देखते हुए उन्होंने यह फैसला लिया है. कंपनी ने यह भी बताया कि बच्चा विमान में चढ़ने से पहले घबरा रहा था. कंपनी ने कहा कि सभी बिंदुओं की जांच के बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि हमारा फैसला सही और सुरक्षित था, जिसे हमने मुश्किल क्षणों में लिया.