गौतम अडानी टेलीकॉम सेक्टर में करेंगे एंट्री, जियो और एयरटेल से होगा मुकाबला

एशिया के सबसे अमीर अरबपति कारोबारी गौतम अडानी अब टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री करने की तैयारी कर रहे हैं।

एशिया के सबसे अमीर अरबपति कारोबारी गौतम अडानी अब टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री करने की तैयारी कर रहे हैं। टेलीकॉम सेक्टर में अपना दबदबा बनाने के लिए अडानी कंपनी एक नई योजना बना रही है। खबर है कि गौतम अडानी ग्रुप इस महीने के अंत में होने वाली आगामी 5G स्पेक्ट्रम नीलामी में भाग लेंगे और इसके लिए आवेदन किया है। यह जानकारी सूत्रों के हवाले से दी गई है। बता दें अडानी ग्रुप का मुकाबला सीधे मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो और इस सेक्टर के दिग्गज सुनील भारती मित्तल की एयरटेल से होगा।

26 जुलाई को होनी है नीलामी   5G टेलीकॉम सर्विसेज जैसे अधिक हाई स्पीड वाला इंटरनेट संपर्क प्रदान करने में सक्षम इन एयरवेव की नीलामी में भाग लेने के लिए आवेदन शुक्रवार को कम से कम चार आवेदकों के साथ बंद हुए। अडानी ग्रुप ने 8 जुलाई को अपनी रुचि जमा की है। ये नीलामी 26 जुलाई को होनी है। मामले की जानकारी रखने वाले तीन सूत्रों ने बताया कि दूरसंचार क्षेत्र की तीन निजी कंपनियों – जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने आवेदन किया है। सुत्रों की माने तो चौथा आवेदक अडानी ग्रुप है। समूह ने हाल ही में राष्ट्रीय लंबी दूरी और अंतरराष्ट्रीय लंबी दूरी के लिए लाइसेंस हासिल किया था। अडानी ग्रुप से इस संबंध में ऑफिशियली बयान देकर इसकी पुष्टि की है।
12 जुलाई को डिटेल्स होगी प्रकाशित   नीलामी की समय सीमा के अनुसार आवेदकों के स्वामित्व का विवरण 12 जुलाई को प्रकाशित किया जाएगा। दूरसंचार स्पेक्ट्रम की नीलामी 26 जुलाई, 2022 से शुरू हो रही है। इस दौरान कम से कम 4.3 लाख करोड़ रुपये के कुल 72,097.85 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की पेशकश की जाएगी।

Also Read – व्हाइट साड़ी में मलाइका ने मचाया धमाल, फोटोज़ देख खुली रह जाएगी आँखे

अंबानी-अडानी की रेस
अंबानी और अडानी दोनों गुजरात के रहने वाले हैं और उन्होंने बड़े कारोबारी समूह बनाए हैं। हालांकि, अभी तक दोनों का किसी व्यवसाय में सीधा आमना-सामना नहीं हुआ था। अंबानी का कारोबार तेल और पेट्रोकेमिकल से दूरसंचार और रिटेल सेक्टर तक फैला है, वहीं अडानी बंदरगाह से लेकर कोयला, ऊर्जा वितरण और विमानन क्षेत्र में विस्तार किया। हालांकि, कुछ लोगों का कहना है कि दोनों के हित काफी व्यापक होते जा रहे हैं, और अब उनके बीच संघर्ष के लिए मंच तैयार है। अडानी ने हाल के महीनों में पेट्रोकेमिकल कारोबार में प्रवेश के लिए एक सहायक कंपनी बनाई है। दूसरी ओर अंबानी ने भी ऊर्जा कारोबार में कई अरब डॉलर की योजनाओं की घोषणा की है।